शरीर के अंगों की रक्षा के साथ-साथ हड्डियों की देखभाल भी बेहद ज़रूरी है, नहीं तो कमज़ोर होने के साथ-साथ यह कई बीमारियों की शिकार भी हो जाती हैं। हड्डी से जुड़ी कई बीमारियां यूं तो पुरुषों और महिलाओं दोनों को होती हैं लेकिन समय के साथ हड्डियों से जुड़ी परेशानियां महिलाओं को अधिक परेशान करती हैं। इसका एक कारण है कि उम्र के साथ-साथ महिलाओं की हड्डियां छोटी और पतली होती जाती हैं क्योंकि मेनोपॉज़ के बाद एस्ट्रोजन हॉर्मोन का स्तर शरीर में कम हो जाता है। इसी वजह से हमें हड्डियों का बहुत ध्यान रखना चाहिए नहीं है तो आर्थराइटिस, ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारियां जकड़ लेती हैं। आज हम आपको बताएंगे कि कैसे आप अपनी हड्डियों की सुरक्षा कर सकते हैं और इन्हें मजबूत बना सकते हैं।

हड्डियों की मजबूती के लिए अपनाएं ये तरीके तो होंगे फायदे

विटामिन डी और पोटेशियम से भरपूर खाना खाएं

Image Credit: ndtvimg.com

डायटीशियन मंजरी ताम्रकार के मुताबिक, बढ़ती उम्र में हड्डियों की समस्या से बचना चाहते हैं तो डाइट में ऐसे खाद्य पदार्थ शामिल करें जिनमें भरपूर मात्रा में विटामिन डी और पोटेशियम हो। जैसे दूध से बने खाद्य पदार्थ, चीज़,पनीर, फिश, हरी-पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक,मेथी आदि में पोषण तत्वों की भरपूर मात्रा होती है जो कि हड्डियों की मजबूती बढ़ाते हैं।

रनिंग और योग से होगा फायदा: रनिंग से हड्डियों में आपका वजन होल्ड करने की जान आ जाती है। कूल्हे, पेडू, पैरों की हड्डियां दौड़ने से ही मजबूत होती हैं,इसके अलावा कई योग आसन भी कूल्हे,पैरों, कलाई की हड्डियों को मजबूत बनाते हैं। इन सभी हड्डियों में फ्रैक्चर की संभावना होती है इसलिए इन्हें बचाना बेहद ज़रूरी है।

डांस: डांस एक फन वर्कआउट की तरह है जिससे शरीर और हड्डियां दोनों ही मजबूत होते हैं। यह आपके अंदर से आलस्य को दूर कर आपको फिट बनाता है। अगर आप नियमित तौर पर डांस करते हैं तो हड्डियां कमज़ोर नहीं होती है,इसके अलावा मोटापा, डायबिटीज और दिल की बीमारियों की भी संभावना कम हो जाती है। डांस से आपकी मेंटल हेल्थ भी सुधरती है और डिप्रेशन भी नहीं होता है।

प्रोटीन खाएं: हड्डियों की 50 प्रतिशत संरचना ही प्रोटीन से होती है। कम प्रोटीन से हड्डियां कमज़ोर होती हैं इसलिए अपनी डाइट में प्रोटीन से भरपूर खाद्य पदार्थ ज्यादा से ज्यादा शामिल करें। सोया,अनाज, दूध से बने पदार्थों,मशरूम में बहुत प्रोटीन पाया जाता है।

बहुत कम कैलोरी डाइट से बचें: वेट लॉस करने के लिए सभी लो-कैलोरी डाइट लेना पसंद करते हैं लेकिन ध्यान रखें कि इससे आपके शरीर में पोषक तत्वों की कमी ना हो जाए। ज्यादा ही कम कैलोरी डाइट लेने से बोन डेंसिटी कम होने लगती है जिससे आर्थराइटिस, ऑस्टियोपोरोसिस और अन्य हड्डियों से जुड़ी बीमारियां हो सकती है।

This is aawaz guest author account