इन दिनों फिट रहने के लिए लोगों पर काफी दबाव रहता है। बॉडी-शेमर्स और हेल्थ फ्रीक्स ने फिट रहने के स्टैंडर्ड बहुत हाई कर दिए है, दूसरी तरफ सभी सेलेब्रिटी के इंस्टाग्राम पर परफेक्ट फिगर और बॉडी की तस्वीरें देखकर, हम जैसे आम लोगों में खूबसूरत और फिट दिखने की चाह दिन पर दिन बढ़ जाती है। हालांकि इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं कि आप फिट बनने की कोशिश में अपने आप को नुकसान पहुचांए।

खूबसूरत दिखने से ज़्यादा ज़रूरी है आपकी मानसिक और शारीरिक फिटनेस। इसके लिए ज़रुरी है कि आप नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करें। लेकिन अगर आप एक्सरसाइज़ करने के बाद भी थकान महसूस कर रहे है, आपके जोड़ो में दर्द हो रहा है तो नीचे दिए गए लक्षणों को ज़रूर पढ़े। यह लक्षण आपको बताते है कि सही वक्त आ गया है कि आप जिम से ब्रेक ले।

जब आपका पैर आपका वज़न नहीं उठा पाता


अक्सर साइकिलिस्ट और रनर्स जब एक पैर पर खड़े होते हैं, तो वह दर्द महसूस करते हैं। जिम में वर्क आउट के दौरान लेग इंजरी होना आम बात है। ऐसा तब होता है जब आप कोई व्यायाम गलत तरीके से या फिर गलत सरफेस पर करे।

आपके जोड़ो में दर्द और सूजन रहती हैं


जोड़ों में सूजन होना इस बात का संकेत है कि अापकी बॉडी में कुछ तो सही नहीं है। अगर आप अधिक वर्क आउट से हो रही सूजन को कम करना चाहते है तो जिम से ब्रेक ले लें। जोड़ों में सूजन होने के बावजूद अगर आप जिम जाते है तो आपको ज़्यादा नुकसान पहुंचने की संभावना है।

pain-and-swelling-on-joint-should-not-be-ignored-500x360
जोड़ो के दर्द और सूजन को आप इग्नोर नहीं कर सकते

आसानी से थक जाते हैं


यदि आपको कसरत के दौरान थकान या सांस लेने में दिक्कत होती है, तो इसका मतलब है की आपकी बॉडी का इम्यूनिटी लेवल कम हो गया है। कसरत करने के बाद आपको फुर्ती की जगह थकान महसूस होती हैं, तो आपको तुरंत ही अपने खाने पीने की चीज़ों पर ध्यान देना चाहिए और डाईट प्लान बदल देना चाहिए।

सरदर्द या उल्टी जैसा होता है


जो लोग ज़रूरत से ज़्यादा कसरत करते है उन्हें सर दर्द या उल्टी जैसा हो सकता है। यह आपके रक्त में सोड़ियम का लेवल कम होने के कारण भी हो सकता है। ऐसे समय में, उचित यही है कि आप ज़्यादा ज़्यादा से पानी पीकर अपने आपको हाइड्रेटेड रखे और जिम से ब्रेक ले लें।

बर्दाश्त के बाहर है दर्द


एक नियमित कसरत के बाद दर्द होने में कोई हानि नहीं है, लेकिन हमे अच्छे और बुरे दर्द में अंतर समझना बहुत ज़रूरी है। यदि आपके काव्स और बाइसेप्स में दर्द होता है, तो समझदारी इसी में है कि आप कुछ दिनों के लिए जिम से ब्रेक ले लें। खासकर जब पीठ के निचले हिस्से का दर्द आपके पैरों तक बढ़ जाए, तो डॉक्टर को दिखाना आवश्यक है।

इन सभी लक्षणों से आप यह पता लगा सकते हैं कि आपकी बॉडी को किस समय आराम की ज़रूरत है।