बचपन से लेकर बुढ़ापे तक दूध एक ऐसा पेय है, जिसे लोग हर उम्र में पीना पसंद करते हैं। दूध की तरह पौष्टिक चीज़ और दूसरी नहीं है। इसमें ना सिर्फ शरीर को स्वस्थ रखने वाले गुण पाए जाते हैं, बल्कि यह पीने में भी बेहद स्वादिष्ट होता है। यही वजह है कि भारत में दूध का इस्तेमाल बड़े तौर पर होता है। यही नहीं दूध को हमारे देश में शुद्धता की निशानी माना जाता है, यही वजह है कि भारत में दूध का एक अलग स्थान है। आज हम आपको दूध के बारे में कुछ ऐसी ही बातें बताने जा रहे हैं, जो आपने पहले कभी नहीं सुनी होगी।

दूध पीने से किडनी में पथरी की संभावना बहुत कम हो जाती है। दूध किडनी को ना सिर्फ ठीक करता है, बल्कि उसका स्वास्थ्य भी बनाए रखता है।

एक गिलास दूध में जितनी कैल्शियम की मात्रा होती है, इतनी मात्रा 16 गिलास पालक का जूस पीने के बाद मिलती है।

गाय के दूध से ज़्यादा बकरी के दूध में मक्खन होता है। यानी आप गाय के दूध से ज़्यादा बकरी के दूध से मक्खन निकाल सकते हैं। इतना ही नहीं, यदि आप बकरी का दूध प्रोटीन पाने के लिए पी रहे हो, तो आप गलत हैं। क्योंकि बकरी के दूध में प्रोटीन नहीं पाया जाता।

बकरी के दूध में प्रोटीन नहीं पाया जाता

कड़ी मेहनत के बाद यदि आप एनर्जी चाहते हों, तो आप दूध पीजिए। क्योंकि दूध से ज़्यादा एनर्जी आपको और कोई पेय नहीं दे सकता।

मानव शरीर को स्वस्थ रखने के लिए जो चीज़े ज़रूरी हैं, वह सारी चीज़ें दूध में मौजूद होती है। प्रोटीन, विटामिन, फॉस्फोरस, मैग्नेशियम, आयोडीन, कैल्शियम  और बाकी सभी आवश्यक तत्व दूध में पाए जाते हैं।

दुनिया की सबसे पहली दूध डेयरी सऊदी अरब में खोली गई थी। यह दूध ऊंट का था, जिसे वहां डेयरी में बेचा जाता था।

आप नहीं जानते होंगे लेकिन पैक्ड दूध में विटामिन ए, आयरन और कैल्शियम ऊपर से मिलाया जाता है।

दुनिया में सबसे ज़्यादा यानी कि 90% दूध गाय का ही पिया जाता है। वहीं  एक साधारण इंसान को गाय का दूध पचाने के लिए 1 घंटे का समय लगता है।

यदि आप भी पौष्टिकता बढ़ाने के लिए दूध का सेवन करते हैं, तो यह खबर आपके लिए ही है!

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..