खाने से होने वाली बीमारियां भारत में बेहद सामान्य हैं। यह बीमारियां हाइजीन यानी साफ़-सफ़ाई की कमी, कैमिकल्स के प्रयोग और कई कारणों की वजह से फैलती हैं। खाद्य जनित रोगों से डायरिया,उल्टी-दस्त, मरोड़ आदि पेट की कई अन्य बड़ी समस्याएं भी हो सकती हैं। हाल ही में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में 2018 में तकरीबन 15 बिलियन डॉलर रुपए ख़राब खाने से बिगड़ने वाले स्वास्थ्य पर खर्च हुए हैं। यह 2017 के मुकाबले 28 बिलियन डॉलर कम ज़रुर हैं लेकिन खाद्य जनित रोगों पर खर्च के हिसाब से बहुत ही अधिक हैं। इन बीमारियों से बचने के लिए इनकी रोकथाम ज़रुरी है। ऐसे में आज हम आपको खाने से होने वाली बीमारियों से कैसे बचें, इस बारे में बताने जा रहे हैं।

इस वजह से फैलती हैं खाने से होने वाली बीमारियां

साफ़-सफ़ाई का रखें ध्यान

Image Credit: experthometips.com

डायटीशियन मंजरी ताम्रकार के मुताबिक, सबसे पहला कदम है साफ़-सफ़ाई का, खाना बनाने वाली जगह से लेकर बर्तनों का साफ़ होना बेहद ज़रूरी है। इसके लिए ज़रूरी है कि किचन प्लेटफॉर्म,खाना रखने वाले रैक,मसाले के डिब्बे, फ्रिज,रोटी रखने वाले बर्तन की सफ़ाई आदि के साथ-साथ खाना बनाने के दौरान अपने हाथ ज़रूर साफ़ रखें। साथ ही ध्यान रखें कि खाने के बर्तनों को धोते वक्त उनमें साबुन या लिक्विड लगा ना रह जाए। खाना हमेशा ढंककर रखें ताकि उनपर ख़ासकर मक्खी या अन्य कीड़े-मकौड़े ना बैठ पाएं। सब्जियां पकाने से पहले अच्छे से धो ली जाएं और फल खाने से पहले अच्छे से धो लिए जाएं, यह बात अवश्य सुनिश्चित करें। जब इन सब बातों का ध्यान रखेंगे तो ना ही खाने पर ख़राब बैक्टीरिया पनप पाएंगे और ही कोई इन्फेक्शन का ख़तरा होगा।

अच्छी तरह पका हुआ ही खाना खाएं, अधपकी सब्जी हो या नॉन-वेज, इनमें पेट में इन्फेक्शन पैदा करने के चांस बहुत अधिक होते हैं इसलिए हमेशा अच्छे से खाना पकाएं और तभी खाएं। इसके अलावा पका हुआ खाना दो घंटे से ज्यादा न रखें और कोशिश करें कि इस अन्तराल के दौरान खाकर खत्म कर दें।देर तक रखें खाने में बैक्टीरिया पनपने की संभावना बहुत अधिक रहती है क्योंकि हर एक फ़ूड आइटम का पकाने पर तापमान अलग होता है और जब वह देर तक रह जाते हैं तो स्वास्थ्य को उससे पोषण नहीं मिलता उल्टा इन्फेक्शन होने का ख़तरा बढ़ जाता है।

कई फूड्स को एक साथ रखने से भी ऐसे बैक्टीरिया पनपने का डर रहता है जिससे बीमारियां हो सकती हैं। इसलिए अगर नॉन वेज खाते हैं तो कच्चे मीट और फिश को अलग-अलग बैग्स में रखें तो बेहतर है। इन्हें छूने के बाद अच्छे से हाथ धो लें और तभी दूसरे फ़ूड आइटम्स में हाथ लगाएं नहीं तो बाकी खाने के सामान में भी कीटाणु फैलने की आशंका हमेशा बनी रहती है।

This is aawaz guest author account