पाव भाजी महाराष्ट्र के सबसे स्वादिष्ट व्यंजनों में से एक है। भाजी, मसली हुई सब्जियों को मिलाकर बनती है, जिसे मुलायम और मक्खन से लदे पाव के साथ परोसा जाता है। लगता है कि पाव भाजी मुंबई की पहचान बन गई है। इस स्वादिष्ट व्यंजन से रोज़ाना ना जाने कितने लोग अपना पेट भरते हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि हर मुम्बईकर की यह पसंदीदा डिश, पाव भाजी का जन्म कैसे और कहां हुआ ? आइये जानते है…

मक्खनदार पाव और मसालेदार भाजी

Image Credit: vegrecipesofindia.com

पाव भाजी, मुंबई की हर गली में तब से मशहूर है जब मुंबई, ‘बॉम्बे’ के नाम से जाना जाता था। पाव भाजी की कहानी 1860 के दशक की है, जब मुंबई में मिल के मजदूरों का शोषण किया जाता था। उन मज़दूरों के काम करने के घंटे नियमित नहीं होते थे और उन्हें अक्सर देर रात तक काम करना पड़ता था, जिसके कारण अपना परिवार और शहर छोड़कर मुंबई में पैसे कमाने आए मज़दूरों को रात का भोजन खाने के लिए संघर्ष करना पड़ता था।

मुंबई की सड़कें पाव भाजी के बिना अधूरी हैं

Image Credit: vegrecipesofindia.com

आसपास के होटलों में भी आधी रात को बस कुछ बची कुची सब्जियां होती थीं। इसलिए मज़दूरों को एक सस्ता भोजन देने के लिए उन्होंने एक योजना तैयार की। इन होटलों के मालिकों ने इन सभी बची हुई सब्जियों को मसलकर मिलाया। सब्ज़ियों के इस मिश्रण को जीसुट चर्च के बचे हुए बन्स के साथ परोसा करते थे, जिसे हम ‘पाव’ कहते है। तो ऐसे हुआ पाव भाजी का आविष्कार।

बची हुई सब्जियों को मिलाकर बनाया गया यह स्वादिष्ट व्यंजन, पाव के साथ खाने पर अधिक मज़ेदार लग रहा था। यह व्यंजन बहुत पौष्टिक भी था। इस डिश में मटर, गाजर, शिमला मिर्च, आलू, प्याज़ और कभी-कभी फूलगोभी जैसी कई सब्जियों के गुण थे। इसलिए, यह डिश पौष्टिक,स्वाद से भरपूर और बनाने में आसान भी थी।

कईयों के पेट भरें इन बची सब्जियों ने!

Image Credit: vegrecipesofindia.com

पाव की अपनी एक अलग कहानी है। पाव को पोर्तुगीज द्वारा भारत में लाया गया था। जब पोर्तुगीज ने गोवा पर आक्रमण किया था, तब उन्होंने अधिकांश गोअन व्यंजनों को अपनाया, लेकिन फिर भी वह अपना पाव खाए बिना नहीं रह पा रहे थे। इसलिए उन्होंने भारतीय रसोइयों को पाव सिखाया। इसे पहले ‘पाओ’ कहा जाता था, लेकिन समय के साथ इसे मुंबई में ‘पाव’ कहा जाने लगा। गोवा के पाव और मुंबई की भाजी का मेल एक शानदार पकवान बनता है।

एक पोर्तुगीज व्यंजन!

Image Credit: vegrecipesofindia.com

हमे यकीन है कि इतिहास जानने के बाद पाव भाजी की ओर आपका नज़रिया बदल गया होगा। तो अब आप ही बताइए कि क्या इसे एक वर्कर्स डिश कहा जाना चाहिए या फिर एक रॉयल डिश ?

This is aawaz guest author account