ऑस्टियोआर्थराइटिस घुटनों में होने वाली सबसे आम लेकिन सबसे असहनीय दर्द देने वाली बीमारियों में से एक है। ऑस्टियोआर्थराइटिस के रोगियों को खान-पीन से लेकर दैनिक दिनचर्या तक में विशेष सतर्कता बरतनी पड़ती है। ऐसा ना करने की दशा में रोगी के लिए ना सिर्फ चलना-फिरना दूभर हो जाता है, बल्कि शरीर के अन्य हिस्सों जैसे कूल्हे,रीढ़ की हड्डी और हाथ के जोड़ों तक पर इसका खराब प्रभाव पड़ता है।

क्या है ऑस्टियोआर्थराइटिस

डॉक्टर आरपी पटेल के अनुसार, ऑस्टियोआर्थराइटिस की बीमारी में जोड़ों में कड़ापन होने के साथ ही भीषण दर्द रहता है। बीमारी के गंभीर होने की दशा में रोगी को चलने में तकलीफ होती है। दरअसल उम्र बढ़ने के साथ-साथ घुटने में मौजूद कार्टिलेज जो हड्डी के लिए एक ल्यूब्रिकेंट की तरह काम करती है घिसने लगती है। कार्टिलेज के घिसने के चलते जोड़ों की हड्डियां चलने-फिरने या किसी भी प्रकार के मूवमेंट के दौरान एक-दूसरे से रगड़ती हैं। यही आगे चलकर असहनीय दर्द का कारण बनता है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या ऑस्टियोआर्थराइटिस में होने वाले दर्द को सही आहार द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है? इसका जवाब है हां। नियमित दिनचर्या और सही आहार इस बीमारी में रामबाण साबित हो सकती है। तो आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ आहार के बारे में…

सही आहार दिला सकता है ऑस्टियोआर्थराइटिस के दर्द में राहत

दूध,केले का सेवन भी जोड़ो के दर्द में दिलाएगा राहत

Image Credit: telegraph.co.uk

दूध- ऑस्टियोआर्थराइटिस से पीड़ित महिला या पुरुष को दूध पीना चाहिए। दूध में मौजूद पोषक तत्त्व हड्डियों के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं। पुरुषों की तुलना में ऑस्टियोआर्थराइटिस के केस महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलते हैं। ऐसे में दूध का सेवन ऑस्टियोआर्थराइटिस के असहनीय दर्द को हल्का कर सकता है।

केले – ऑस्टियोआर्थराइटिस की बीमारी में केला एक रामबाण आहार है। केले में मौजूद पोटेशियम कार्टिलेज के विकास में सहायक होता है। ऐसे में केला खाना ऑस्टियोआर्थराइटिस में लाभप्रद है।

लहसुन- दिल की बीमारियों में अपनी उपयोगिता सिद्ध करवा चुका लहसुन ऑस्टियोआर्थराइटिस में भी एक कारगर हथियार है। जी हां, हालिया रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है कि लहसुन में मौजूद तत्व आर्थराइटिस से होने वाले दर्द को काफी हद तक कम कर सकता है।

नींबू- नींबू में मौजूद विटामिन सी क्षतिग्रस्त हुए कार्टिलेज को रिपेयर करना का बेहतरीन जरिया है। इसलिए यदि आप भी जोड़ों के दर्द से होने वाली इस बीमारी से पीड़ित हैं तो हमारा सुझाव होगा कि आप अपने आहार में नींबू का ज़रूर उपयोग करें।

अंगूर- अंगूर ऑस्टियोआर्थराइटिस के दर्द को कम करने में काफी सहायक है। एक्सपर्ट्स के अनुसार,ऑस्टियोआर्थराइटिस के रोग में अंगूर का सेवन करने से हड्डियों में लचीलापन आता है और जोड़ों के बीच का कड़कपन दूर होता है।

This is aawaz guest author account