आज कल लोग अपनी सेहत को लेकर सजग हो रहे हैं और इसलिए बाज़ार में उनके लिए अलग-अलग तरह का आटा मिलता है। फिर भी कौन से आटे से बनी रोटी खाई जाए, इस बात को लेकर सभी कंफ्यूज रहते हैं। आटे से बनी चपाती सभी को अच्छी लगती है, तो वहीं नॉन वेज के साथ रुमाली, नान, फर्मेंटेशन की गई खमीरी रोटी लोगों को पसंद आती है। लेकिन कौन सी रोटियां हमारी सेहत के लिए फायदेमंद है और किस तरह के आटे से बनी हुई चपाती हमें खानी चाहिए, इसकी जानकारी लोगों को नहीं होती। यदि आप भी ऐसे ही कन्फ्यूज़न में है, तो आज हम आपको मल्टीग्रेन आटे से बनी रोटियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आपकी सेहत में चार चांद लगा देती हैं। आइये जानते हैं मल्टीग्रेन रोटियों के फायदों के बारे में।

क्या है मल्टीग्रेन आटा?

आटे से बनी चपाती सभी को अच्छी लगती है, तो वहीं नॉन वेज के साथ रुमाली, नान, फर्मेंटेशन की गई खमीरी रोटी लोगों को पसंद आती है

गेंहू के आटे के बजाय बेहतर सेहत के लिए अलग-अलग तरह के अनाज को मिलकर पिसवाए गए आटे से बनी रोटियों को खाने की सलाह दी जाती है। मल्टीग्रेन आटे में चना, चावल, ज्वार, बाजरा, मक्का, जौ, सोयाबीन, तिल्ली, मेथी, अलसी इत्यादि को मिलकर बनाया जाता है। लोग अपनी ज़रुरत के अनुसार इन सभी अनुपात तय करते हैं और अनाज में बदलाव करते हैं।

क्यों खाएं मल्टीग्रेन रोटियां?

जो डायटिंग करते हैं, उनके लिए मल्टीग्रेन रोटियां किसी वरदान से कम नहीं है

मल्टीग्रेन रोटियों की ख़ासियत है कि ये अलग-अलग तरह की दालों और ग्रेन्स से बनी होती है, ज़ाहिर है इसमें सादे आटे से बनी रोटियों से ज़्यादा पोषक तत्व होते हैं। मल्टीग्रेन रोटियों से हमें सामान्य रोटियों की तुलना में दुगुना पोषण मिलता है। साथ ही इसमें भरपूर मात्रा में फायबर होता है, जो पाचन तंत्र से जुड़ी समस्याओं को हमेशा के लिए दूर कर सकता है। खास तौर पर जिन लोगों को कब्ज़ की शिकायत होती है, उन्हें मल्टीग्रेन रोटियों का सेवन करना चाहिए।

इन रोटियों में फायबर की मात्रा ज़्यादा होती है, जिसकी वजह से आपका पेट लम्बे समय तक भरा रहता है। इसलिए आप लम्बे अंतराल में खाना खाते हैं, जिससे आपका वज़न नियंत्रित रहता है। जो डायटिंग करते हैं, उनके लिए मल्टीग्रेन रोटियां किसी वरदान से कम नहीं है।

मल्टीग्रेन रोटियों में मौजूद फायबर, कार्बोहैड्रेट और प्रोटीन की वजह से आपका शरीर अंदर से मज़बूत बनता है। रोज़ाना मल्टीग्रेन रोटियां खाने से आपकी रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती है और मौसमी बीमारियों की चपेट में आने से आप बचते हैं। साथ ही मल्टीग्रेन रोटियां शरीर में फैट जमा होने नहीं देती, जिसकी वजह से रक्तचाप और मोटापे से परेशान लोगों को फायदा होता है।

इस तरह मल्टीग्रेन रोटियां आपकी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद मानी जाती है।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..