आपने अक्सर बुज़ुर्गों को खाने के बाद पान खाते हुए देखा होगा। खास तौर पर पुराने ज़माने में लोग पान खाना पसंद करते थे, जिसकी कई वजहें थीं। एक तो था इसका स्वाद और दूसरा पाने खाने से होनेवाले फायदे। आप शायद नहीं जानते होंगे कि पान खाने से शरीर को कई फायदे होते हैं। यदि आप भी खाने के बाद पान खाना पसंद करते हैं, तो ये खबर आपके लिए ही है।

पाचन में उपयोगी

पान खाने से मुंह की स्लेवरी ग्लैंड सक्रिय हो जाते है

credit: pcdn.co

पान खाने से सबसे ज़्यादा फायदा होता है शरीर के पाचन तंत्र को, क्योंकि पान खाने से हमारी पेट सम्बन्धी समस्याएं दूर होती हैं। दरअसल पान खाने से मुंह की स्लेवरी ग्लैंड सक्रिय हो जाते है और ज़्यादा लार उत्पन्न होती है। लार की मदद से खाना जल्दी से जल्दी पचता है। पान में पड़ने वाले मसाले जैसे कत्था, लौंग या इलायची की मदद से मुंह से दुर्गन्ध नहीं आती और मुंह की समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

मुंह की समस्याएं होती हैं दूर

पान खाने से मुंह की लार में एस्कोर्बिक एसिड का स्तर सामान्य बना रहता है, जिसकी वजह से मुंह में समस्या पैदा करने वाले बैक्टीरिया नहीं पनपते। इससे मुंह से जुड़ी बीमारियां जैसे मसूड़ों में सूजन या मुंह की दुर्गन्ध इत्यादि से छुटकारा मिलता है।

अन्य बीमारियों में भी असरदायक

जब आप पान को शहद के साथ खाते हैं तो यह और भी ज़्यादा असरकारक हो जाता है

credit: firstcrycdn.com

यदि आप ऐसा सोच रहे हैं कि पान खाने से सिर्फ मुंह की समस्याएं ठीक होती हैं, तो आप गलत हैं। क्योंकि पान में मौजूद एंटी एलर्जिक गुण आपकी सर्दी को भी छूमंतर कर सकते हैं। खास तौर पर जब आप पान को शहद के साथ खाते हैं तो यह और भी ज़्यादा असरकारक हो जाता है।

यहां तक की पान में ऐसे तत्व होते हैं, जो आपके सिरदर्द को कुछ ही समय में दूर कर सकते हैं। इसलिए सिरदर्द में पान खाना आपके लिए फायदेमंद माना जाता है।

आपको जान कर हैरानी होगी कि पान खाने से काम इच्छा भी बढ़ती है। इसमें मौजूद तत्व कामेच्छा को और अंतरंग पलों के आनंद को दुगुना कर सकती हैं।

इस तरह पान एक ऐसा मुखवास है, जो खाने के बाद मुंह में ताज़गी तो देता ही है, साथ ही शरीर को बेहद फायदा पहुंचाता है। अगली बार जब आप पान खाए तो उसके स्वाद के साथ-साथ उसके गुणों की तारीफ करना ना भूलें।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..