रेस्टोरेंट में खाना खाने जाना सभी को बेहद पसंद है। बाहर जाकर कोई नॉन वेज खाना पसंद करता है, तो कोई वेज डिशेस, लेकिन एक चीज़ भारतीय रेस्टोरेंट में ऐसी दी जाती है, जो लोगों को बेहद पसंद होती है। ये चीज़ कुछ और नहीं, बल्कि रेस्टोरेंट में सर्व की जानेवाली सौंफ और मिश्री है। यह बच्चों से लेकर बड़ों तक को पसंद है। लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि ये सौफ और मिश्री के मिश्रण को खाने के बाद क्यों सर्व किया जाता है? आइए हम आपको बताते हैं।

सौंफ है बेहद काम की चीज़

खाने के बाद आपके मुंह से खाद्य पदार्थों की वजह से दुर्गंध ना आए, इसका भी खास ख्याल रखा जाता है।

खाने के बाद सौंफ इसलिए खायी जाती है, क्योंकि इससे खाना पचने में आसानी होती है। वहीं सौंफ की तासीर ठंडी होती है, इसलिए इसे खाने के बाद एसिडिटी और गैस की समस्या नहीं होती। ये रेस्टोरेंट में तेल-मसाले से युक्त खाने को पचाने में मददगार साबित होती है। यही वजह है कि रेस्टोरेंट में खाने के बाद सौंफ सर्व की जाती है।

साथ ही यदि आप रेस्टोरेंट में खाने जाते हैं, तो कई लोग आपके साथ होते हैं। खाने के बाद आपके मुंह से खाद्य पदार्थों की वजह से दुर्गंध ना आए, इसका भी खास ख्याल रखा जाता है। सौंफ का सेवन करने से आपके मुंह की दुर्गंध दूर करती है और मुंह के छाले, दांतों के पीलेपन इत्यादि समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है।

आपको जानकार हैरानी होगी कि मसालेदार और तेल से बना ये खाना वसा के रूप में शरीर में जमा होने लगता है। इससे मोटापा तेज़ी से बढ़ता है। यही वजह है कि खाने के बाद यदि चबा-चबाकर सौंफ खाई जाए, तो यह खाने को आसानी से पचा सकती है और आपको मोटापे की समस्या से जूझना नहीं पड़ता।

मिश्री और सौंफ एक साथ क्यों?

मिश्री में कुछ ऐसे तत्व होते हैं, जो खाने के बाद आपका आलस भगाकर आपकी एनर्जी को बूस्ट करते हैं

दरअसल मिश्री यदि सौंफ के साथ मिल जाए, तो आपके शरीर को दुगुना फायदा पहुंचाती है। मिश्री में कुछ ऐसे तत्व होते हैं, जो खाने के बाद आपका आलस भगाकर आपकी एनर्जी को बूस्ट करते हैं। साथ ही ये आपका मूड बेहतर बनाती है। ज़ाहिर है ग्राहकों को खुश करने के लिए सौंफ और मिश्री का मिश्रण रेस्टोरेंट में सर्व किया जाता है।

साथ ही मिश्री भी सौंफ की ही तरह आपका डाइजेस्टिव सिस्टम बेहतर बनाती है, जिससे आप पेट से जुड़ी हुई समस्याओं से दूर रहते हैं। आपको जान कर हैरानी होगी कि यह आपके शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर बेहतर बनाती है। इससे आपको कमज़ोरी नहीं आती और शरीर में रक्त संचार को बढ़ावा मिलता है।

इस तरह मिश्री और सौंफ का ये तालमेल आपके शरीर के लिए बेहतर माना जाता है। यदि आप भी इससे सहमत हैं, तो हमें ज़रूर बताइये।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..