अक्सर लोग शराब की वजह से नशे में होते हैं। यह नशा ऐसा होता है कि शराब पीने वाला व्यक्ति कहीं भी सो जाता है। ना जगह देखता है, ना मौका, ना वक्त। हर वक्त उसे नींद की ज़रूरत महसूस होती है। साथ ही लोगों को ज़्यादा शराब पीने की वजह से अजीबो-गरीब चीजें दिखाई देती है, जिसे हल्लुसिनेशन का नाम दिया गया है। हल्लुसिनेशन की अवस्था में लोग अक्सर ऐसा कुछ देखते हैं, जो असली दुनिया में नहीं हो रहा होता।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऐसा सिर्फ शराब पीने से नहीं, बल्कि और भी कई खाद्य पदार्थों की वजह से हो सकता है। जी हां, हैरानी की बात ज़रूर है, पर कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं, जिन्हें खाने से आपको हल्लुसिनेशन की अवस्था का सामना करना पड़ सकता है। आइए जानते हैं कौन से हैं यह खाद्य पदार्थ।

लाल मिर्च
ज़्यादा मिर्च खाने पर आपको तंबाकू खाने के बाद होने वाला नशा हो सकता है

क्या आप जानते हैं, रोज़ाना थोड़ी मात्रा में लाल मिर्च खाना फ़ायदेमंद है। लेकिन यदि आप इसे अधिक मात्रा में इस्तेमाल करते हैं, तो आपके शरीर में एंड्रोफिन रश रिलीज़ होता है, जो आपको तंबाकू खाने की वजह से भी हो सकता है। इसीलिए ज़्यादा मिर्च खाने पर आपको तंबाकू खाने के बाद होने वाला नशा हो सकता है।

जायफल
जायफल में मिरिस्टिसिन नामक पदार्थ होता है

5 से 15 ग्राम तक जायफल खाने से आपको उल्टी जैसा लगना और 12 घंटे तक हैंगओवर की समस्या हो सकती हैं। जायफल में मिरिस्टिसिन नामक पदार्थ होता है, जिसे ज़्यादा खाने पर आपको सिर घूमना, चक्कर और नशे जैसी समस्या हो सकती हैं।

कॉफी
कैफीन शरीर में जाकर आपके लिए ऑडिटरी हैल्युसिनेशन का सबब बन सकता है

एक रिसर्च की मानें, तो दिन में 5 कप कॉफी पीने से आपको हल्लुसिनेशन  की समस्या हो सकती है। इससे आपको अजीबो-गरीब आवाज़ें सुनाई देगी, जिसका असल ज़िंदगी से कोई ताल्लुक नहीं होगा। कैफीन शरीर में जाकर आपके लिए ऑडिटरी हैल्युसिनेशन का सबब बन सकता है।

मलबैरी
मिल्की जूस आपके नर्वस सिस्टम पर अटैक कर आपको अजीबो-गरीब चीजें दिखा सकता है

मलबैरी एक ऐसा फल है, जिसे खाने से आपको हल्लुसिनेशन  की समस्या हो सकती है। यह कुछ देर के लिए आपके दिमाग पर काबू पाकर, आपको नशे की अवस्था में पहुंचा सकती हैं। इसमें पाया जाने वाला मिल्की जूस आपके नर्वस सिस्टम पर अटैक कर आपको अजीबो-गरीब चीजें दिखा सकता है।

मैजिक मशरूम
इसे कम मात्रा में खाने की सलाह दी जाती है

इसके नाम से ही इसके असर का साफ पता चलता है। जैसा कि सभी जानते हैं मशरूम की कई वैरायटीज़ बाज़ार में उपलब्ध है, लेकिन मैजिक मशरूम में कई साइकेडेलिक कंपाउंड पाए जाते हैं। इसमें पाए जाने वाले सिलोसायबिन और सिलोसिन नामक पदार्थ आपके दिमाग पर काबू पा कर आपको कुछ देर के लिए नशे की अवस्था में ला सकते हैं। इसीलिए इसे कम मात्रा में खाने की सलाह दी जाती है।

यदि अगली बार आपका इन खाद्य पदार्थों से पाला पड़े, तो सोच समझकर और सही मात्रा में इसे खाने की सलाह आपको दी जाती है।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..