मौसम में बदलाव की वजह से कई लोग बीमार पड़ रहे हैं। खास तौर पर लोगों को अपच, कब्ज़, मितली और फ़ूड पॉजनिंग की शिकायत हो रही है। इस वजह से हमारा शरीर ना सिर्फ डिहाइड्रेटेड होता है, बल्कि कमज़ोरी की समस्या से भी हमें जूझना पड़ता है। एक बात है जो हमें फ़ूड पॉइजनिंग के दौरान परेशान करती है वह है कि आखिर इस समस्या में खाना किस तरह खाया जाए। यदि आपके मन में भी यही सवाल है, तो आइये इसका जवाब हम आपको देते हैं।

तरल पदार्थ देंगे राहत

आप सूप, जूस, सोडा, पतला दलीया, दाल का पानी जैसे पदार्थ ले सकते हैं

credit: medicalnewstoday.com

दरअसल फ़ूड पॉइजनिंग में पाचन तंत्र पर बुरा असर होता है और इसलिए ये ज़रूरी है कि हम तरल पदार्थ लें, जो आसानी से पच भी जाए और हमें डिहाइड्रेशन से भी बचाए। फ़ूड पॉइजनिंग में अक्सर हमें कई बार उल्टी और दस्त की शिकायत हो जाती है, ऐसे में शरीर में पानी की कमी होना आम बात है। इसलिए आपको तरल पदार्थ खाने की हिदायत दी जाती है। आप सूप, जूस, सोडा, पतला दलीया, दाल का पानी जैसे पदार्थ ले सकते हैं। ध्यान रहे कि आप ये पदार्थ हर दो घंटे में लें। यदि आपको खाने के तुरंत बाद उल्टी हो जाए, तो आधे घंटे का ब्रेक लें।

अंडे का फंडा

डॉ आर जैन की माने तो फ़ूड पॉइजनिंग के दौरान मांसाहार का सेवन कभी नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसे पचाना हमारे शरीर के लिए आसान नहीं होगा। लेकिन आप अंडे का सेवन कर सकते हैं। आप उबला हुआ एक अंडा खा सकते हैं। ये ना सिर्फ आपको ताकत देगा, बल्कि ये आपके पेट को भी आराम पहुंचाएगा। आप चाहें तो हाफ फ्राय या पोच अंडा खा सकते हैं। तेल या मसाले में पका हुआ अंडा या उसकी सब्ज़ी खाने से परहेज करना चाहिए।

फल से लेकर फलों के रस तक

यदि आपको खाने का मन ना हो रहा हो, तो आप इसका जूस भी ले सकते हैं

credit: newstracklive.com

जैसा कि आप सभी जानते हैं, फल शरीर को अंदरूनी रूप से फायदा पहुंचाते हैं। इसमें मौजूद विटामिन्स और मिनरल्स आपके शरीर से विषैले पदार्थ बाहर निकालकर आपको एनर्जी देते हैं। लेकिन आपको ध्यान रखना है कि सेब या खट्टे फल ना खाएं। ये आपके शरीर में एसिडिटी बढ़ाते हैं। इसके बदले आप केला, चीकू और अनार जैसे फल खा सकते यहीं। यदि आपको खाने का मन ना हो रहा हो, तो आप इसका जूस भी ले सकते हैं। ये आसानी से पिएं जा सकते हैं और इनके सेवन से मितली की समस्या भी नहीं होती।

दही या योगर्ट देंगे साथ

आपको जान कर हैरानी होगी कि फ़ूड पॉजनिंग में प्रोबायोटिक बैक्टीरिया आपको बेहद पहुंचाते हैं। इसलिए आपको दही या योगर्ट का सेवन करने की हिदायत दी जाती है। इसमें मौजूद प्रोबायोटिक बैक्टीरिया आपकी आंतों में पहुंचकर आवश्यक और फायदेमंद बैक्टीरिया का स्तर सामान्य करते हैं और हानिकारक बैक्टीरिया को बनने से रोकते हैं। साथ ही दही या योगर्ट की तासीर ठंडी होती है, जिससे पेट में मौजूद एसिडिटी कम होती है।

इस तरह फ़ूड पॉजनिंग की समस्या में ये खाद्य पदार्थों आपकी मदद कर सकते हैं और जल्द से जल्द आपको बेहतर स्वस्थ पाने में मदद कर सकते हैं।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..