स्वस्थ जीवनशैली के लिए सही खान-पान बेहद आवश्यक होता है। आप में से अधिकांश लोगों ने एक कहावत सुनी होगी कि ‘हमारा सुबह का नाश्ता राजाओं की तरह, दोपहर का लंच राजकुमारों की तरह और रात का खाना कंगालों जैसा होना चाहिए’। स्वस्थ शरीर के लिए खाने से जुड़ा यह नियम बेहद ज़रूरी है। इसके साथ ही ज़रूरी है सही समय पर खाना। जी हां, हममें से अधिकतर लोग क्या खाना है यह तो प्लान कर लेते हैं लेकिन खाने-पीने के सही समय का ध्यान नहीं रखते, नतीजा हमें वैसा स्वास्थ्य लाभ नहीं मिल पाता जैसा मिलना चाहिए।

सुबह का नाश्ता: डायटीशियन मंजरी ताम्रकार के अनुसार, हमारा शरीर एक निश्चित समय पर खाना खाने के लिए खुद को तैयार कर लेता है। ऐसे में तय समय पर खाना नहीं खाने से मील को स्किप करने से शरीर में फैट की मात्रा बढ़ने लगती है। यही फैट आगे चलकर मोटापे और डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारियों को जन्म देता है। जानकारों के अनुसार हमें अपनी दिन की पहली डाइट (ब्रेकफ़ास्ट) का विशेष ध्यान रखना चाहिए और कोशिश करनी चाहिए कि सोकर उठने के 2 से 3 घंटों के भीतर ही हम ब्रेकफ़ास्ट कर लें। ब्रेकफास्ट करने के लिए सुबह 8 से 10 बजे का समय सबसे उपयुक्त बताया गया है।

भोजन के समय का रखेंगे ध्यान तो बढ़िया रहेगी सेहत

नाश्ते और मोटापे का कनेक्शन

Image Credit: vegrecipesofindia.com

सही समय पर ब्रेकफास्ट ना करने वाले लोग ना तो वजन घटा सकते हैं और ना ही घटे हुए वजन को कभी बढ़ा सकते हैं। चीन में हुई एक रिसर्च से पता चलता है कि सुबह का नाश्ता ना करने वाले लोग मोटापे का आसानी से शिकार बन जाते हैं। यहां यह भी जानना ज़रूरी है कि 210 कैलोरी युक्त भोजन लेना ‘मील’ की श्रेणी में आता है जबकि इससे कम कैलोरी वाला भोजन ‘स्नैक्स’ की श्रेणी में आती है।

दोपहर का खाना: दोपहर के खाने और ब्रेकफास्ट के बीच कम से कम 4 घंटों का अंतराल होना चाहिए। लंच लेने के लिए सबसे उपयुक्त समय दोपहर 1 से 2:30 बजे के बीच का है।

रात का खाना: वहीं रात का भोजन हमें कम से कम लेना चाहिए और कोशिश करनी चाहिए कि सोने से कम से 2 से 4 घंटे पहले हम डिनर कर लें। ऐसा हमारे पाचन तंत्र के सुचारू रूप से कार्य करने के लिए बेहद ज़रूरी है। रात के खाने में मूंगफली, केला,दही,ताजे फल और सब्जियां लेना सबसे बेहतरीन विकल्प है। कोशिश करें कि रात का खाना 8 बजे तक खा लें।

This is aawaz guest author account