अक्सर लोग खाने के बाद मीठा खाते हैं, क्योंकि उन्हें मीठा खाने की इच्छा होती है। ऐसा लोगों को इसलिए महसूस होता है, क्योंकि उनके शरीर को ग्लूकोज़ की ज़रुरत पड़ती है। वहीं दूसरी ओर एक्सपर्ट्स की माने तो मीठा खाने का एक समय बेहद अच्छा होता है और वह है नाश्ते का समय। रात भर भूखे रहने के बाद आपके शरीर को ज़रुरत होती है एनर्जी की। इसलिए सुबह का नाश्ता बेहद ज़रूरी हो जाता है।

यदि आप नाश्ते में मीठा खाते हैं, तो शरीर में ग्लूकोज़ की मात्रा में इजाफा होता है। इससे दिन भर आपके शरीर को एनर्जी मिलती है। लेकिन आपको ध्यान रखना होगा कि आप वह खाद्य पदार्थ खाएं, जिसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम हो। ग्लाइसेमिक इंडेक्स वह आंकड़ा है, जो यह दर्शाता है कि कोई भी खाद्य पदार्थ कितनी जल्दी या धीरे-धीरे शरीर में ग्लूकोस का लेवल बढ़ाएगा।

क्यों खाए ब्रेकफास्ट में मीठा?

जब आप नैचुरल शुगर का सेवन करते हैं, तो यह आपके दिमाग को भी तेज़ी से काम करने में मदद करता है

Image Credit: mbymontcalm.co.uk
डॉ कल्पना कोठारी की माने तो ब्रेकफास्ट में मीठा खाना आपके लिए फायदेमंद होता है, क्योंकि यह शरीर को तुरंत एनर्जी देता है और ग्लूकोस को रिलीज़ भी धीरे-धीरे करता है। जिससे हमारे शरीर में पूरे दिन एक्टिव रहता है और एनर्जी की कमी महसूस नहीं होती। इसके अलावा जब आप नैचुरल शुगर का सेवन करते हैं, तो यह आपके दिमाग को भी तेज़ी से काम करने में मदद करता है।

ब्रेकफास्ट में करें इन चीजों का इस्तेमाल

ब्रेकफास्ट में नारियल पानी और शहद और यहां तक कि पका हुआ नारियल भी खा सकते हैं

Image Credit: healthline.com

अगर आप चाहते हैं कि आपका शरीर स्वस्थ रहे, तो आपको ब्रेकफास्ट में 5 बादाम, एक अखरोट और एक सूखा अंजीर ज़रूर खाना चाहिए। आप चाहे तो ब्रेकफास्ट में नारियल पानी और शहद और यहां तक कि पका हुआ नारियल भी खा सकते हैं।

इसके अलावा ब्रेकफास्ट में आप दही खाएं, इससे त्वचा सम्बन्धी समस्याएं भी दूर होती हैं और रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। दही में नैचुरल शुगर होता है, जो आपको हेल्दी बनाने में मदद करता है। नाश्ते में आप पनीर भी खा सकते हैं, इसमें प्रोटीन, प्रोबायोटिक्स और कैल्शियम भरपूर होता है जो हड्डियों को मजबूती और मेटाबॉलिज्म के स्तर को बढ़ाता है।

इस बात का ध्यान रखें कि ब्रेकफास्ट की क्वांटिटी आपकी भूख से आधी या तीन चौथाई होनी चाहिए। यदि आप इन बातों का ध्यान रखेंगे तो आप हमेशा फिट रहेंगे।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..