कंगना अपनी बेबाकी के लिए जानी जाती हैं। बिंदास बातें कर इंडस्ट्री में कई लोगों के खिलाफ आवाज़ उठाने वाली कंगना, हालांकि अब खुद में बदलाव महसूस कर रही हैं। 16 साल की उम्र में घर छोड़ कर, अपना करियर बनाने मुंबई आई कंगना के मुताबिक उन्होने अपना रास्ता खुद बनाना सीख लिया है। लोगों के मुंह से खुद के लिए मेंटल शब्द लगातार सुनने वाली कंगना को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि लोग उनके बारे में क्या सोचते हैं।

मेरे चलने और सांस लेने से भी लोगों को तकलीफ़ है

कंगना ने फिल्म गैंगस्टर से इंडस्ट्री में शुरुआत की थी

Image Credit: dailypioneer.com

करण के खिलाफ नेपोटिज़्म और ऋतिक के खिलाफ कई बार बेबाक बातें करने वाली कंगना इंडस्ट्री से नहीं है। साल 2006 में अनुराग बसु की फिल्म गैंगस्टर से बॉलीवुड मे एन्ट्री करने वाली कंगना के मुताबिक आउटसाइडर होने के नाते उन्हें कई तकलीफों का सामना करना पड़ता है और शायद यही कारण है कि उनकी हर चीज़ पर विवाद आसानी से हो जाता है। उनकी आने वाली फिल्म ‘मेंटल है क्या’ में मेंटल शब्द यूज़ करने को लेकर उठे विवाद के बाद, उनकी फिल्म का नाम भले ही ‘जजमेंटल है क्या’ कर दिया गया हो, लेकिन कंगना का दावा है कि कई बार विवाद, सिर्फ और सिर्फ इसलिए हो जाते हैं क्योंकि उस चीज़ या फिल्म के साथ उनका नाम जुड़ा होता है। कंगना की माने तो, “जब किसी चीज़ के साथ कंगना रनौत का नाम जुड़ जाता है, तो लोगों को बहुत सी तकलीफें होने लगती हैं। मैं आउटसाईडर हूं, तो मैं चलती भी हूं या सांस भी लेती हूं, तो लोगों को तकलीफ होती हैं। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए हमें भी रास्ता बनाना सीख लिया है। जैसे सलमान जी की किक की साउथ फिल्म का नाम मेंटल था, लेकिन मेरी फिल्म को वो टाइटल नहीं मिला।”

मुझे भी लोग पगली-पगली कहकर बुलाते थे

कंगना आने वाले दिनों में अश्विनी अय्यर तिवारी की फिल्म में नज़र आएंगी

newsd.in

अपनी आने वाली फिल्म ‘जजमेंटल है क्या’ में कंगना एक ऐसी लड़की का किरदार कर रही है, जिसकी दिमागी हालत थोड़ी ठीक नहीं। अपनी असली ज़िंदगी में भी कई लोगों से खुद के लिए मेंटल और पगली जैसे शब्द सुन चुकी कंगना की मानें तो उन्हे इस बात में कोई शर्मिंदगी महसूस नहीं होती कि लोग उनके बारे में क्या सोचते है या फिर क्या बोलते हैं। कंगना की मानें तो , “मेरी ज़िंदगी में भी एक दौर ऐसा आया था कि लोगों को लगता था कि मुझे कोई दिमागी बीमारी हैं और मैं मेडिकेशन पर हूं। मैं तो लोगों को बोलती थी कि क्या हुआ अगर हूं भी तो, दरअसल, मैं किसी मेडिकेशन पर होती भी तो भी मुझे कोई शर्मिंदगी महसूस नहीं होती। साल 2016 -17 का अगर वो दौर मेरी ज़िंदगी में नहीं आया होता, तो शायद में इस कहानी से रिलेट नहीं कर पाती।”

मां को उम्मीद है कि 30 साल की होने के बाद मुझमें आएगा बदलाव

कंगना हिमाचल प्रेदश में पली-बढ़ी हैं

Image Credit: images.in.com/optimize

हर बात और मुद्दे पर अपनी राय रखती कंगना के मुताबिक 30 साल की होने के बाद वह खुद में बदलाव ज़रुर महसूस करती हैं। ‘जजमेंटल है क्या’ के ट्रेलर लांच की प्रेस कोन्फ्रेंस पर पहुंची कंगना ने कई पत्रकारों के सवालों के चुटकी लेते हुए जवाब दिए। खुद के स्वभाव और बड़बोलेपन पर उठे सवाल पर खुद ही चुटकी लेते हुए कंगना ने कहा कि पंडित के मुताबिक 30 की उम्र के बाद उनके स्वभाव में कई परिवर्तन होंगे। कंगना की माने तो, “मेरी मम्मी को किसी ज्योतिषि ने बोला था कि 30 की उम्र के बाद मैं थोड़ा शांत हो जाऊंगी। मैं 30 की हो गई हूं और मुझे लगता है कि मेरे अंदर की आग धीरे-धीरे बुझ रही हैं। हालांकि जो लोग मुझे प्यार करते हैं मेरे फैंंस, इंडस्ट्री तो गई तेल लेने, उनकी वजह से मैं यहां हूं, नहीं तो मैं कभी भी यहां खड़ी नहीं हो पाती।”

‘जजमेंटल है क्या’ कंगना और राजकुमार की फिल्म है, जो 26 जुलाई को रिलीज़ होगी। इस फिल्म से पहले कंगना झांसी की रानी फिल्म में नज़र आई थी, जिसको फैन्स ने काफी पसंद किया था।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।