रीमा दास निर्देशित असमिया फिल्म ‘विलेज रॉकस्टार’ ऑस्कर की राह पर चल पड़ी है। इस फिल्म को ऑस्कर 2019 में भारत की ओर से नॉमिनेट किया गया है। इस बात का ऐलान शनिवार को किया गया। फिल्म को 91 वें अकादमी पुरस्कार में भारत की ओर से चुना गया है। इस बात का चुनाव फिल्म फेडरेशन ऑफ इंडिया के सदस्यों ने किया है। साथ ही भारतीय फिल्म उद्योग और सरकार से ऑस्कर अवॉर्ड के फाइनल राउंड में इसे प्रमोट करने का आग्रह भी किया है।

इस बात की घोषणा समिति के अध्यक्ष एस वी राजेंद्र सिंह बाबू ने की। इस बारे में बात करते हुए समिति के सदस्यों में से एक अनंत महादेवन ने कहा
‘इस फिल्म को जूरी सदस्यों में से ज्यादातर वोट मिले हैं। इस फिल्म पर हमें गर्व है।’

ऑस्कर की दौड़ में यह फिल्में भी शामिल

ऑस्कर में भारत की ओर से 28 फिल्मों को भेजे जाने की सूची बनाई गई थी, जिसमें पद्मावत, राजी, हिचकी, पैडमैन जैसे बड़ी बजट फिल्में थी। साथ ही लव सोनिया, मंटो, कड़वी हवा और गली गुलिया जैसी फिल्मों का भी चयन किया गया था। इन फिल्मों में से ऑस्कर में भेजे जाने वाली फिल्म का चुनाव चयन समिति में निर्देशक जी नीला कांत रेड्डी और शिव प्रसाद मुखर्जी के साथ साथ सिनेमैटोग्राफर अजयन जोसेफ विंस्टन और फिल्म संपादक संजय शंकर ने भी किया।

रीजनल लैंग्वेज की फिल्में भी थीं शामिल

बॉलीवुड की फिल्मों के अलावा कुछ रीजनल लैंग्वेज की फिल्मों को भी इस दौड़ में शामिल किया गया था।जिसमें मराठी, तमिल और आसामी फिल्मों को लिया गया था। बता दें कि ऑस्कर 2017 में राजकुमार राव की फिल्म न्यूटन को चुना गया था, लेकिन यह फिल्म नॉमिनेशन राउंड में नहीं जा पाई थी। इस बार ऑस्कर की दौड़ में कौन-कौन सी फिल्में बाजी मारती है, यह देखना काफी दिलचस्प होगा।
आप भी देखिए ऑस्कर की दौड़ में शामिल होने वाली फिल्म विलेज रॉकस्टार का यह ट्रेलर

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..