फिल्म ‘मसान’ से लोगों की नज़रों में आए एक्टर विक्की कौशल ने अपनी एक्टिंग से लोगों के दिलों मे जगह बना ली है। बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर से फिल्मों में शुरुआत करने वाले विक्की ने फिल्मों से पहले थिएटर में काम किया। आज कई कमर्शियल फिल्मों का हिस्सा बन रहे विक्की कौशल ने बहुत छोटे समय में अपनी पहचान बना ली है। ‘राज़ी’ और ‘संजू’ जैसी फिल्मों का हिस्सा रहे विक्की ने फिल्म उरी में अपनी एक्टिंग से यह तो साबित कर ही दिया है कि वह किसी भी तरह की फिल्मों का हिस्सा बन सकते है और अब अकेले ही अपने कंधे पर किसी भी फिल्म को हिट कर सकते हैं।

जब ऑडिशन के लिए दर दर भटकते थे

विक्की कौशल एक्शन डायरेक्टर श्याम कौशल के बेटे हैं

आज के बेहतरीन एक्टर में अपना नाम दर्ज करा चुके विक्की का संघर्ष कम नहीं था। विक्सी आज भी उन दिनों को नहीं भूलते, जब वह ऑडिशन के लिए स्टूडियो के दरवाज़े खटखटाया करते थे। विक्की बताते हैं “एक झोला लेकर मैं निकलता था, जिसमे फॉर्मल कपड़े होते थे और ट्रेडिशनल कपड़े भी होते थे। पता नहीं किस ऑडिशन में क्या बोल दे, तो दरवाज़े खटखटा कर हम पूछते थे कि सर क्या मैं ऑडिशन के लिए फिट हूं? 100 लोग की वेटिंग होती थी, तो मैने तो वो दौर भी देखा है।”साल 2012 से इंडस्ट्री में शुरुआत करने वाले विक्की ने अपने करियर में लगभग 10 से 12 फिल्में कर ली है, लेकिन विक्की मानते है कि फिल्म ‘मसान’ का उनके करियर में बहुत बड़ा योगदान रहा है। “मसान से मेरी शुरुआत हुई, लेकिन मैं उसमे अकेला नही था। फ़िल्म में एक साथ तीन कहानियां चल रही थी। उसमें भी ऑडियंस ने पहचान और प्यार दिया और क्रेडिबिलिटी दी। उस फिल्म ने बहुत से दरवाज़े मेरे लिए खोल दिए।”

हर फिल्म से साथ विक्की का अभिनय है निखरा

vicky kaushal
फिल्म उरी विक्की की पहली सोलो फिल्म है

जहां फिल्म ‘मसान’ से विक्की फिल्म फेस्टिवल तक पहुंचे, वहीं ‘संजू’ और ‘राजी’ ने उन्हें 100 करोड़ के क्लब में शामिल कर दिया। अब हाल ही में रिलीज़ हुई फिल्म उरी से विक्की ने यह साबित कर दिया कि वह अपने कंधे पर पूरी फिल्म हिट करा सकते हैं। विक्की मानते है कि किसी भी फिल्म का 100 करोड़ में शामिल होना बतौर एक्टर उनके लिए ही नहीं, बल्कि फिल्म इंडस्ट्री के लिए भी अच्छा है। विक्की के मुताबिक “जब किसी एक्टर की फिल्म 100 करोड़ में शामिल होती हैं, तो इससे प्रोडयूसर का भी फायदा होता है क्योंकि वो आगे और बेहतर फिल्म बना सकता है। वह कई और रुकी हुई फिल्मों को रिलीज़ कर सकता है।”

विक्की थियेटर के साथ भी जुड़ चुके हैं

पहली कमाई 2,000 रुपए थी

रजत कपूर के साथ थिएटर के लिए बैक स्टेज काम करने वाले विक्की को अपनी पहली जॉब के लिए 2000 का चेक मिला था, जो उन्हें आज भी याद है। बॉलीवुड के जाने वाले एक्शन डायरेक्टर श्याम कौशल का बेटा होने के बावजूद बॉलीवु़ड में शामिल होना उनके लिए आसान नहीं था। विक्की का कहना है कि उनके पिता उन्हें इंजीनियर बनाना चाहते थे, वह चाहते थे कि विक्की अमेरिका जाकर पैसा कमाएं, लेकिन विक्की ने एक्टर बनने की ठान ली थी। खास बात है कि बॉलीवुड में जगह बनाने के लिए विक्की को अपने पिता से कभी कोई सहायता नहीं मिली । विक्की बताते हैं, “ इंडस्ट्री में जगह बनाना आसान नहीं था क्योंकि सबको लगता था कि अब इनका भी बेटा एक्टर बनना चाहता है। क्योंकि इंडस्ट्री में हर किसी का बेटा या बेटी एक्टर ही बनना चाहता है। मेरे पिता ने पहले ही कह रखा था कि एक्शन डायरेक्टर के बेटे होने पर शायद कोई आपके साथ चाय पी लेगा या फिर 15 से 20 मिनट दे देगा, लेकिन करोड़ रुपए लगा कर तब तक फिल्म नहीं बनाएगा जब तक तुम में टैलेंट नहीं है।”

अपने पिता की वजह से ग्लैमर की दुनिया को करीब से देख चुके विक्की मानते है कि सफलता और सफलता दोनों को ही गंभीरता से नहीं लेना चाहिए। उनका मानना है “इस बात का वाकई मुझे बहुत फायदा मिला कि मेरे पापा इस इंडस्ट्री में काम करते थे, तो मुझे यह पता है कि यहां बहकना नहीं है। यहां पर चीज़े आसानी से नहीं मिलती। बहुत मेहनत करनी पड़ती है। आपके जैसे कई लाखों लोग इस काम को करना चाहते है। यहां बहुत सेक्रिफाइज़ करने पड़ते हैं, तब जाकर इस इंडस्ट्री में आप कुछ मुकाम हासिल कर सकते हैं। “

उनकी तरह एक्टर बनने का सपना लाखों लोगों से विक्की सिर्फ यहीं कहते है कि एक्टर बनना है तो कोशिश करना नहीं छोड़ना चाहिए और निराश नहीं होना चाहिए। एक्टर बनने का सपना देखने वालों को सलाह देते हुए विक्की कहते हैं, “अपने आप पर से विश्वास मत खोना और घर पर बैठ कर एक्टर नहीं बना जा सकता। एक्टर किताबें पढ़ कर और फिल्में देख कर भी नहीं बना जा सकता। यह ज़रुरी है कि आप बाहर निकले।”

अपनी हर फिल्म से बतौर एक्टर ग्रो हो रहे विक्की की सिर्फ एक ही इच्छा है कि उनकी ज़िंदगी फिल्म सेट पर फिल्में करते हुए ही गुज़र जाए

विक्की की ऐसी ही कई बेहतरीन और रोचक बातें आप aawaz.com पर बिग ब्रेक विद हिना के एपिसोड में सुन सकते हैं। एपिसोड को सुनने के लिए आपको नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करना होगा।

Podcast: बिग ब्रेक विद हिना

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।