चांद पर जाने की चाह तो कई लोगों को होगी, लेकिन चांद पर ज़मीन लेना और वहां घर बनाने का सपना भला कोई देखता होगा? हालांकि बॉलीवुड के एक्टर सुशांत सिंह राजपूत अब ‘चंदा मामा दूर के’ करते-करते चांद पर एक प्लॉट ले बैठे है। आपको शायद इस बात पर विश्वास ना हो, कि क्या वाकई चांद पर भी प्लॉट ख़रीदा जा सकता है।लेकिन यह बात सच है कि चांद पर अगर आप चाहे तो ज़मीन ख़रीद सकते हैं। लगता है कि अब सुशांत का एक आशियाना चांद पर भी होगा।

सुशांत के पास है चांद पर उनकी खरीदी ज़मीन होने का सबूत

इससे पहले शाहरुख खान के एक फैन ने उन्हें चांद पर प्लॉट गिफ्ट किया था

भारत की पहली स्पेस फिल्म कही जाने वाली फिल्म ‘चंदा मामा दूर के’ के लिए सुशांत ने काफी ट्रेनिंग ली थी। इस फिल्म के निर्देशक है संजय पुरन सिहं चौहान हैं। इस फिल्म में उनके साथ आर माधवन और नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी भी है। सुशांत ने अपनी इस फिल्म के किरदार को ईमानदारी से निभा पाने के लिए, नासा जाकर स्पेसवॉक ड्रिल, मूनवॉक, झीरो ग्रेविटी की ट्रेनिंग ली थी। यहां तक तो ठीक था, लेकिन यह किसी ने नहीं सोचा था कि सुशांत चांद पर एक प्लॉट खरीद लेंगे। इस प्लॉट का नाम है ‘सी ऑफ मसकोवी” उनका यह प्लॉट ब्लाइंड साइड ऑफ अर्थ के नाम से मशहूर जगह पर स्थित है, जिसका मतलब है कि वह ऐसी जगह पर है जिसे आप धरती से नहीं देख सकते। इस प्लॉट से जुड़ी एक और जानकारी शायद आपको चौंका दे। इस प्लॉट को खरीदने के पीछे सबसे बड़ा कारण है सुशांत का अपने देश के लिए प्यार। सुशांत ने यह प्लॉट इसलिए भी ख़रीदा क्योंकि इसका आकार बिल्कुल भारत के आकार (नक्शा) जैसा है।

चांद सितारों की बातों से पहले से है लगाव

telescope-at-home-of-sushant-singh-rajput
घर पर है दुनिया का सबसे बेहतरीन टेलीस्कोप

दरअसल सुशांत को पहले से ही स्पेस और यूनिवर्स के बारे में जानने की जिज्ञासा रही है। हाल ही में उन्होनें अपने घर में, दुनिया का सबसे एडवांस माने जाने वाला टेलिस्कोप Meade 14” LX600 ख़रीदा है। कहा जाता है कि यह टेलिस्कोप इतना एडवांस है कि आपको महसूस होगा कि आप खुद चांद तारों के करीब हो, उस टेलीस्कोप से आसमान और तारे करीब से देखे जा सकते हैं। अच्छी बात तो ये है कि भले वह अपनी चांद पर खरीदी हुई ज़मीन को देखने ना जा सके, कम से कम इस टेलीस्कोप के माध्यम से वह उस पर नज़र तो रख ही पाएंगे।

हालांकि अपनी इस खुशी को ज़ाहिर करते हुए सुशांत का कहना है, “मेरी मां मुझे हमेशा कहा करती थी कि मेरी ज़िंदगी की कहानी वह कहानी है, जो मुझे खुद ही लोगों को सुनानी होगी, तो बस अब मैं चांद पर से अपनी कहानी को सुना रहा हूं।”

सुशांत ने यह ज़मीन इंटरनेशनल लूनर लैंड्स रजिस्ट्री से खरीदी है। उम्मीद है कि ‘चंदा मामा दूर के’ की शूटिंग करते करते थकान होने पर वह अपनी ज़मीन पर जा कर आराम तो कर ही सकेंगे।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।