मनोज बाजपेयी इंडस्ट्री का एक ऐसा नाम है, जिसे शायद ही किसी पहचान की ज़रूरत है।अपने अभिनय का लोहा मनवा चुके मनोज, बहुत ही जल्द फिल्म ‘सत्यमेव जयते’ में नज़र आएंगे। वह इस फिल्म में एक पुलिस की भूमिका निभा रहे हैं। मनोज मानते है कि ऐसी फिल्मों का हिस्सा बन उन्हें लगता है कि इंडस्ट्री को आज भी उनकी ज़रुरत है। मनोज कहते हैं, “ऐसी फिल्मों को करने के बाद मुझे ज़रूर लगता है कि मैं कमर्शियल सिनेमा का हिस्सा हूं और इंडस्ट्री को मेरी ज़रूरत है।मैं फिल्में तो ज़रुर करता हूं, लेकिन मैं कभी कथित मेनस्ट्रीम सिनेमा का हिस्सा नहीं रहा। जब इस तरह ही फिल्में मुझे ऑफर होती हैं, तो मुझे लगता है कि मैं भी इंडस्ट्री का हिस्सा हूं। मैं मिलाप और निखील( फिल्म के प्रोडयूसर) का शुक्रिया अदा करता हूं कि इस फिल्म में उन्होनें मुझे लिया।”

मुझे यकीन नहीं हुआ कि मिलाप मुझे अपनी फिल्म में लेना चाहते हैं

10710e10-manoj-bajpayee-feels-like-hes-a-part-of-the-industry-when-he-does-films-like-satyameva-vijayate-1
सत्या के भीखू म्हात्रे से मिली पहचान

मनोज ने 1996 में फिल्म ‘दस्तक’ से अपने करियर की थी, लेकिन उन्हें रामगोपाल वर्मा की फिल्म ‘सत्या’ के ‘भीखू म्हात्रे’ किरदार से पहचान मिली। इस फिल्म के बाद मनोज ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। ज़ुबेदा का महाराज विजयेन्द्र सिहं, पिंजर का रशीद या फिर राजनीति का वीरु भैया, ये सभी किरदार उनके यादगार किरदार रहे हैं। हालांकि मनोज समय समय पर कमर्शियल फिल्में करते रहे, लेकिन उन्हें पैरेलल सिनेमा के एक्टर के तौर पर ही पहचान मिली। यही कारण है कि जब यह फिल्म उन्हें ऑफर हुई, तो उन्हें इस बात पर यकीन नहीं हुआ कि ‘सत्यमेव जयते’ जैसी कमर्शियल फिल्म में मिलाप उन्हें कास्ट करना चाहते हैं। मनोज बताते हैं, “ मैने मिलाप से कहा कि तुम वाकई चाहते हो कि मैं यह फिल्म करु, क्योंकि मैं ऐसी फिल्मों के लिए नही जाना चाहता। उन्होनें कहा कि मुझे इस फिल्म में आप ही चाहिए क्योंकि जिस तरह से आपने फिल्म शूटआउट में डॉयलॉग बोले थे, वह बेहतरीन थे, तो मुझे आप ही चाहिए। “

हालांकि मनोज मिलाप को उस समय से जानते हैं, जब मिलाप फिल्मकार सुधीर मिश्रा को असिस्ट करते थे। मनोज का कहना है कि वह उस समय से वह मिलाप से काम मांग रहे थे। खास बात है कि मनोज मिलाप ज़ावेरी के साथ इससे पहले शूटआउट एट वडाला की थी, उस दौरान मिलाप ने उस फिल्म के डॉयलाग लिखे थे, जो काफी मशहूर हुए थे। 15 अगस्त को रिलीज़ होने वाली फिल्म ‘सत्यमेव जयते’ में मनोज, जॉन अब्राहिम के साथ एक मुख्य किरदार निभा रहे हैं। फिल्म में पुलिस वाले की भूमिका निभाने वाले मनोज कहते है कि भले ही वह फिल्मों में कई बार वर्दी पहन चुके हो, लेकिन वह वर्दी को पहन कर हमेशा गर्व महसूस करते हैं। मनोज कहते हैं, “ जो लोग हमारी सुरक्षा का ध्यान रखते है, उनकी वर्दी पहनना सौभाग्य की बात है, लेकिन मेरे लिए ये बात भी महत्वपूर्ण है कि वर्दी पहनने वाला कहां से आता है, उसके संस्कार, वो क्या काम करता है, ये सब मेरे लिए ज़्यादा मायने रखता है। “

हालांकि भले ही मनोज यह माने कि वह इंडस्ट्री में उनकी मांग नहीं हैं, लेकिन पिछले लगभग 22 सालों से उनकी मौजूदगी इस बात को साबित करती है कि उनके काम में कुछ तो बात है कि आज भी उन्हें इतने बेहतरीन रोल मिल रहे हैं। मनोज बाजपेयी कि यह नई फिल्म 15 अगस्त को सिनेमाघरों में रिलीज़ होगी।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।