बेवड़ा, ठरकी और ड्रग ऐडिक्ट संजय दत्त की कहानी 29 जून को बड़े परदे पर रिलीज़ के लिए तैयार हैं। फिल्म के कई कलाकारों की मौजूदगी में रिलीज़ किए गए इस फिल्म के ट्रेलर में, हर किरदार की नज़र से संजय दत्त की ज़िंदगी की कहानी को दिखाया गया है। अपनी ज़िंदगी में कई उतार-चढ़ाव देख चुके संजय दत्त की ज़िंदगी पर बन रही इस फिल्म के ट्रेलर में उनका किरदार अपनी हर कमी पर बात करता है, उसे मानता है, लेकिन साथ ही इस बात का भी दावा करता है कि वह टेररिस्ट नहीं।

आइए जानते हैं कि आखिर फिल्म में अहम भूमिका निभा रहे इन किरदारों के रोल और संजय दत्त के साथ उनके रिश्ते के बारे में

संजय दत्त का किरदार रणबीर कपूर निभा रहे हैं, ये तो सभी को पता है, लेकिन रणबीर का कहना है कि उनके लिए इस कहानी को करना इतना आसान नहीं था। उनके मुताबिक, “ मैं बहुत उत्साहित था यह फिल्म करने के लिए, लेकिन मैंने तो सिर्फ एक्टिंग की है, जब मैं सोचता था कि संजय दत्त खुद इन परिस्थितियों से गुज़रे हैं तो मैं बहुत चौक जाता था। इस फिल्म में संजय दत्त की ज़िंदगी को कुछ ऐसा दिखाया गया है कि हम सब को उनकी ग़लतियों से कुछ ना कुछ सीख मिलेगी। शायद इसीलिए उन्होंने भी अपनी ज़िंदगी की ग़लतियां इतनी आसानी से बता दी, जिससे सभी इस से कुछ सीख ले सके।”

फिल्म में एक शॉट के लिए आपने सभी कपड़े उतार देने वाले रणबीर के मुताबिक, “ मैने तो अपनी पहली फिल्म में भी कपड़े उतारे थे, टॉवल गिरा दिया था। मैं बहुत शर्माता हूं, लेकिन जब कैमरे के सामने हो, तो सब करना पड़ता है, एक एक्टर को इमोश्नली न्यूड होना पड़ता है।”

संजय दत्त के माता पिता

फिल्म में संजय दत्त के माता पिता की भूमिका में परेश रावल और मनीषा कोइराला को दिखाया गया है। संजय के साथ कई फिल्में कर चुकी मनीषा इस फिल्म में नरगिस दत्त का किरदार निभा रहीं हैं। मनीषा मे अपने और सुनील दत्त से जुड़ा एक किस्सा याद करते हुए बताया, “मुझे याद है कि मेरी फिल्म बॉम्बें रिलीज़ हुई थी, तो मुझे सुनील द्त्त जी ने एक खत लिखा था और कहा था कि आपको देखकर नरगिस दत्त की याद आ गई और ये एक संयोग ही है कि आज मैं उनका किरदार निभा रही हूं।”

वहीं संजय दत्त के पिता का किरदार निभा रहे हैं परेश रावल। यह भी एक संयोग ही है कि सुनील दत्त भी फिल्म के साथ साथ राजनीति में सक्रिय थे और परेश रावल भी। हालांकि सुनील द्त से जुड़ा उनका भी कुछ किस्सा मनीषा जैसा ही हैं। उनके अनुसार जिस दिन वह इस फिल्म के नरेशन के लिए राजू हिरानी से मिलने गए, उस दिन अचानक ही उनकी पत्नी का फोन आया और बहुत साल पहले परेश रावल को उनके जन्मदिन पर आए खत का जिक्र करने लगी। वह भी इस बात तो एक संयोग मानते है और बताते है, “ मेरे लिए सबसे बड़ी चुनौती सिर्फ यही थी कि मैं इतने अच्छे इंसान का किरदार कैसे निभा पाउंगा।”

संजय दत्त की जिंदगी की लड़कियां

anushka-sharma-and-sonam-kapoor
संजयदत्त जब पे रोल पर बाहर थे, तब लगातार 25 दिन तक शाम 5 बजे से आधी रात के 3 बजे तक वह अपनी कहानी राजू और अभिजात को बताते थे, जिसे रिकार्ड कर फिल्म संजू की कहानी बनी

ट्रेलर में मानें तो संजय दत्त अपनी जिंदगी में एक या दो नहीं .बल्कि 308 और सेफ साइड पर कहे, तो लगभग 350 जितनी लड़कियों के साथ रिश्ता रख चुके हैं। लेकिन उनके जीवन में कुछ ही लड़कियां थी, जिनको हम जानते हैं। फिल्म में सोनम और दीया मिर्ज़ा उन्ही लड़कियों का किरदार निभा रही है। जहां दिया मान्यता दत्त का किरदार निभा रही हैं, वही खबरों पर यकीन करें तो सोनम संजय दत्त की पहली पत्नी का। हालांकि राजकुमार हीरानी का कहना है, “संजय दत्त की जीवन में कई लड़कियां हैं।उन सब के जीवन को दिखाते हुए हमने सोनम का किरदार बनाया है। जब आप फिल्म देखेंगे तब इसके बारे में आपको ज़्यादा मालूम होगा।”

वहीं अनुष्का राजकुमार हिरानी और अभिजात जोषी, जो फिल्म के लेखक है, उनका किरदार निभा रहीं है। जिनको संजय दत्त ने अपनी ज़िंदगी की पूरी कहानी बताई थी और जिसे अब फिल्म में तब्दील किया गया।

संजय के खास दोस्त विक्की कौशल

vicky-kaushal-in-sanju
इस किरदार की प्रेरणा विदेश में रहते उनके एक खास दोस्त से ज़्यादा ली गई हैं

राजू हिरानी की माने तो उस फिल्म में संजय द्त्त की दोस्ती के पहलू को दिखाया गया है, जिससे लोग अनजान थे। ऐसे ही दोस्त की भूमिका निभा रहे है विक्की कौशल। इस किरदार के बारे में राजू हिरानी का मानना है, “संजय दत्त के जीवन में यूं तो बहुत से दोस्त आए, इन सभी दोस्तों का निचोड़ इस एक दोस्त में है, जिसे विक्की निभा रहा है।”

हांलाकि फिल्म का ट्रेलर लोगों को काफी पसंद आ रहा है। खास बात है कि आज से कुछ साल पहले जब संजय दत्त टाडा केस में फंसे तब उनकी छवि को सुधारने में साल 2003 में रिलीज़ हुई फिल्म मुन्ना भाई का काफी बड़ा हाथ था। अब जेल से सजा काट वापस घर लौट चुके संजय द्त्त पर बन रही यह फिल्म, उनकी ज़िंदगी में क्या बदलाव लाती है, ये तो पता नहीं, लेकिन उस फिल्म से भी विधु और राजू जुडे़ थे और इस फिल्म से भी।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।