फिल्मी परिवार से होने की वजह से फिल्मों में संघर्ष कम हो जाता है। इस तरह की बातें अक्सर सुनने को मिलती है। लेकिन हर बार ऐसा नहीं होता कि फिल्मी परिवार से होने के कारण आपको अपना पहला ब्रेक आसानी से मिल जाए। दरअसल, सलमान खान के बैनर तले बन रही फिल्म ‘नोटबुक’ में एक ऐसा नाम है, जिसके परिवार के एक या दो नहीं, बल्कि कई सदस्य फिल्म इंडस्ट्री का कई दशकों से हिस्सा रहे हैं, लेकिन फिर भी उन्हें अपनी पहली फिल्म के लिए ढाई साल तक लगातार ऑडिशन देने पड़े।

नूतन की पोती जल्द ही परदे पर

नूतन की पोती, मोहनीश बहल की बेटी, काजोल की भांजी प्रनूतन (दरअसल नूतन और काजोल की मां तनूजा सगी बहने है) बहुत ही जल्द सुनहरे पर्दे पर डेब्यू के लिए तैयार है और सबसे खास बात है कि यह फिल्म उन्हें सिर्फ फिल्मी परिवार का होने की वजह से नहीं, बल्कि ऑडिशन में पास होने के कारण मिली। उन्हें अपना यह पहला चांस सलमान खान के बैनर तले बन रही फिल्म ‘नोटबुक’ के लिए मिला है, जिसके निर्देशक है नितिन कक्कड़।

सलमान खान और मोहनीश बहल ने कई फिल्मों में साथ काम किया है। इन दोनों ही सितारों की जोड़ी फिल्म ‘हम आपके हैं कौन’से चर्चा में आई जिसके बाद इस जोड़ी ने कई फिल्में साथ-साथ की। अब मोहनीश बहल की बेटी सलमान खान फिल्म्स के बैनर तले बन रही फिल्म के साथ डेब्यू के लिए तैयार है। लेकिन अपनी इस पहली फिल्म को पाने के लिए उन्हें ढाई साल का संघर्ष करना पड़ा। प्रनूतन की मानें तो, ”मुझे ढाई साल तक ऑडिशन देने पड़े थे। मैं कहीं पर भी यह कभी नहीं बताती थी कि मैं नूतन जी की पोती हूं। इस फिल्म के लिए भी मैंने 5 घंटे ऑडिशन दिया। मेरे बाद और 100 लड़कियों के ऑडिशन भी लिए गए लेकिन बाद में डायरेक्टर को लगा कि इस फिल्म के लिए मैं ही सही हूं।”

दादी नूतन और बुआ काजोल की लिगेसी को आगे बढ़ाना है

प्रनूतन की दादी नूतन और काजोल की मां तनुजा सगी बहने हैं

इस बात में कोई दो राय नहीं कि फिल्मी परिवार से होने के कारण अक्सर तुलना ज़रुर होती है। प्रनूतन भी इस बात को अच्छे से जानती है। एक्टिंग की किसी भी तरह की ट्रेनिंग के बिना इस इंडस्ट्री में आई प्रनूतन के अनुसार वह उन तुलनाओं के बारे में सोच कर ही काफी घबरा जाती हैं। प्रनूतन के मुताबिक, “ मेरी रातों की नींद तो यही सोचकर उड़ी हुई है कि मेरी तुलना की जाएगी। मेरी दादी काफी बेहतरीन अदाकारा थी लेकिन उससे ज्यादा प्रेशर मुझे इस बात का है कि जिस तरह की वह शख्सियत थी, जिस डिग्निटी के साथ वह जीती थी या फिर मेरे पिता या मेरी बुआ काजोल जैसे इंडस्ट्री में आगे बढ़े है मुझे उस बात का ज़्यादा ध्यान रखना है।”

लगभग चार-पांच साल की उम्र से ही पापा के साथ सेट पर जाती प्रनूतन की सलमान खान से जुड़ी कई यादें है। अपनी पहली फिल्म ‘नोटबुक’ में वह इकबाल रिज़वी के साथ डेब्यू के लिए तैयार है। उनकी यह फिल्म 29 मार्च को रिलीज़ होगी।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।