पिछले साल फिल्म ‘बधाई हो’ और ‘पटाखा’ जैसी फिल्मों का हिस्सा रही सान्या मल्होत्रा बहुत ही जल्द रितेश बत्रा की फिल्म ‘फ़ोटोग्राफ़’ में नवाजुद्दीन सिद्दीकी के साथ स्क्रीन शेयर करती हुई नज़र आएंगी। अपनी पहली फिल्म आमिर खान के साथ करने वाली सान्या हालांकि अपने अभिनय के लिए हमेशा ही तारीफें बटोरती रही हैं, लेकिन फिल्म ‘फ़ोटोग्राफ़’ के सेट पर जाने से पहले उन्हें यह डर था कि कहीं वह नवाज़ को देखकर पहले ही दिन सेट पर बेहोश ना हो जाए।

जब नवाज़ के बारे में सारी जानकारी नेट से हासिल की

आमिर की फिल्म ‘दंगल’ के बाद सान्या ने दूसरी फिल्म ‘फोटोग्राफ’ साइन की थी

‘लंचबॉक्स’ जैसी फिल्म बना चुके रितेश अंतराष्ट्रीय फिल्म मार्केट में बहुत बड़ा नाम है। उसकी इरफान और निर्मीत कौर के साथ बनाई गई फिल्म ‘लंचबॉक्स’ कई अंतरराष्ट्रीय फिल्म फ़ेस्टिवल में सराही गई। फ़ोटोग्राफ़ रितेश की दूसरी हिन्दी फिल्म है, जो कहानी है एक ऐसे फोटोग्राफर की जो मुंबई घूमने आते टूरिस्ट की फोटो लेता है। कैसे मिलोनी (सान्या) की तस्वीर लेने के सिलसिले में उससे हुई नवाज़ की पहली मुलाकात, लगातार मुलाकातों में तब्दील होती हैं, यहीं इस फिल्म की कहानी है। फिल्म में नवाज़ के साथ काम करने वाली सान्या का कहना है कि वह नवाज़ की बतौर एक्टर बहुत बड़ी फैन रह चुकी हैं और उन्हें इस बात का डर था कि कहीं सेट पर उन्हें पहली बार मिलकर वो बेहाश ना हो जाए। सान्या बताती हैं, “ मेरे लिए बहुत ज़रुरी था कि मैं खुद को थोड़ा कम्फरटेबल कर दूं, जिससे मैं उनके सामने सेट पर बेहोश ना जाऊं क्योंकि बतौर एक्टर वह मुझे बेहद पसंद है। उनको जानने के लिए मैंने एक दिन निकाला और उनके सारे इंटरव्यू बैठ कर देखे। मैंने उनकी ज़िंदगी पर पूरा होमवर्क एक ही दिन में कर डाला। वो कैसे अपने किरदारों के लिए तैयारी करते हैं, बतौर एक्टर वो कैसे काम करते है मैंने यह सब रिसर्च कर ली, लेकिन जैसे ही मैं सेट पर पहुंची तो सब कुछ ठीक था।”

लोगों की तरफ से रहता है काफी प्रेशर

पिछले साल सान्या की बधाई हो हिट रही तो ‘पटाखा’ बॉक्स ऑफिस पर पैसे नहीं कमा पाई

साल 2016 में फिल्म दंगल में आमिर के साथ काम कर चुकी सान्या का मानना है कि उनकी पहली फिल्म आमिर खान के साथ होने के कारण उन पर अच्छी फिल्म चुनने का काफी दबाव रहता था। सान्या कि माने तो उनको यह दबाव परिवार से नहीं, लेकिन आसपास के लोगों से बहुत था। इसलिए उन्हें ऐसी फिल्म साइन करनी थी जिसमें उन्हें कुछ अच्छा परफॉर्म करने का मौका मिले। उसी दौरान उन्हें रितेश बत्रा की यह फिल्म मिली। सान्या का कहना है, “ जब मैंने इस फिल्म की कहानी पढ़ी तो मुझे बहुत ही अच्छी लगी थी। मैं इस फिल्म की कहानी पढ़ कर बहुत खुश हुई थी। उस दौरान मुझे अपने आसपास के लोगों से प्रेशर था कि मैं कोई अच्छी फिल्म चूस करूं क्योंकि पहली फिल्म दंगल मैंने आमिर जैसे बड़े सितारे के साथ ही थी। मैं भी चाहती थी कि कोई ऐसी फिल्म हो जो किसी अच्छे निर्देशक और एक्टर के साथ हो।”

पिछले साल ‘पटाखा’ और ‘बधाई हो’ जैसी फिल्में करने वाली सान्या अपनी फिल्म ‘फोटोग्राफ’ के साथ कई अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव जा चुकी है। खास बात है कि उनकी इस फिल्म को बर्लिन और सनडांस में काफी सराहा गया। हालांकि फिल्मों की सफलता और असफलता से बहुत ज्यादा प्रभावित ना होने वाली सान्या के मुताबिक उनके लिए यह बात मायने रखती है कि उन्हें अपनी हर फिल्म से कुछ सीखने को मिले। पिछले साल जहां सान्या की फिल्म ‘बधाई हो’ काफी हिट रही, वहीं फिल्म ‘पटाखा’ बॉक्स ऑफिस पर बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकी। हालांकि सान्या के मुताबिक उनको जो फिल्म सही लगती है वह कर लेती हैं। वह यह नहीं सोचती कि फिल्म चलेगी या नहीं। सान्या के मुताबिक, “फिल्म पटाखा से बहुत कुछ सीखा। वो किरदार काफी मुश्किल था और विशाल सर के साथ काम करना एक बहुत बड़ी उपलब्धि थीय़ उस सब चीज़ो के ध्यान में रख कर मुझे ऐसा कभी नहीं लगा कि क्यों कि मैंने यह फिल्म क्यों की।’

फिलहाल सान्या अपनी फिल्म ‘फोटोग्राफ’ के साथ इसी महीने बॉक्स ऑफिस पर आने को तैयार है। साल 2016 में इंडस्ट्री में आई सान्या ने भले ही अभी तक कुछ ही फिल्में की हो, लेकिन हर फिल्म में उनके अभिनय ने लोगों के बीच सराहना ज़रुर बटोरी है।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।