आज के दिन हिंदी सिनेमा के एक ऐसे निर्देशक का जन्म हुआ हुआ, जिन्होंने हिंदी सिनेमा में कई अभिनेताओं के करियर को जन्म दिया। मशहूर फिल्म निर्देशक और निर्माता महेश भट्ट का जन्म साल 1948 में आज ही के दिन हुआ था। चूंकि उनका परिवार पहले से ही फिल्मों से ताल्लुक रखता था, इसलिए ज़ाहिर सी बात है कि उनकी रूचि भी इसी क्षेत्र में थी। अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद वो इस इंडस्ट्री का हिस्सा बन गए। महेश भट्ट पहले कुछ समय तक डायरेक्टर राज खोसला को असिस्ट किया करते थे। फिर उन्होंने साल 1974 में फिल्म ‘मंज़िलें और भी हैं’ से एक निर्देशक के रूप में अपना डेब्यू किया। जिसके बाद ‘लहू के दो रंग’, ‘सारांश’, ‘जन्म’, ‘दिल है कि मानता नहीं’, ‘तमन्ना’, ‘दस्तक’, ‘आशिक़ी’ जैसी अनगिनत सुपरहिट फिल्मों का निर्देशन किया। महेश भट्ट निर्देशक के साथ-साथ, एक बेहतरीन निर्माता भी रहे हैं।

बॉलीवुड में महेश भट्ट ने कुछ ऐसे चेहरों को लॉन्च किया है जो आगे चलकर सभी दर्शकों के चहेते बन गए थे। महेश भट्ट ने अपनी फिल्मों के माध्यम से इंडस्ट्री को एक से एक अभिनेता दिए हैं। आज हम उन अभिनेताओं पर एक नज़र डालेंगे जिनका सफर महेश भट्ट की बदौलत इंडस्ट्री में यादगार रहा है।

अनुपम खेर

यह तस्वीर उन दिनों की है जब अनुपम खेर ने अपनी शुरुआत की ही थी

Image Credit: abplive.in

साल 1984 की अवार्ड विनिंग फिल्म ‘सारांश’ में महेश भट्ट ने अनुपम खेर को लॉन्च किया था। इस फिल्म की कहानी ने हर दर्शक के दिल को छुआ था। जिस उम्र में ज़्यादातर अभिनेता एक मेनस्ट्रीम बॉलीवुड फिल्म में लीड हीरो की भूमिका निभाने की चाहत रखते हैं, उस उम्र में अनुपम खेर ने बूढ़े बाप का किरदार निभाया था। अनुपम खेर ने अपने बेहतरीन अभिनय से इस किरदार को यादगार बनाया। इस फिल्म ने कई फिल्मफेयर पुरस्कार भी जीते, जहां अनुपम खेर को बेस्ट एक्टर का अवार्ड मिला,वहीं, महेश भट्ट को बेस्ट डायरेक्टर का अवार्ड मिला। इस फिल्म को अपनी कहानी, आर्ट डायरेक्शन और बेस्ट लिरिक्स के लिए भी अवार्ड्स दिए गए। महेश भट्ट की बदौलत बॉलीवुड को एक ऐसा वर्सेटाइल कलाकार मिला, जिसने आगे चलकर ‘तेज़ाब’, ‘दिल’, ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ और ‘अ वेडनसडे’ जैसी अनगिनत फिल्मों से हमारा मनोरंजन किया।

राहुल रॉय, दीपक तिजोरी, अनु अग्रवाल

फिल्म ‘आशिकी’ से राहुल रॉय और अनु अग्रवाल

Image Credit: hindustantimes.com

साल 1990 में महेश भट्ट निर्देशित फिल्म ‘आशिक़ी’ रिलीज़ हुई थी। यह फिल्म बॉलीवुड की सबसे यादगार रोमांटिक ट्रैजेडी में से एक है। इस फिल्म के साथ ही बॉलीवुड में तीन बेहतरीन अभिनेताओं ने एंट्री की थी – राहुल रॉय, दीपक तिजोरी और अनु अग्रवाल। महेश भट्ट के निर्देशन में इन तीनों अभिनेताओं ने फिल्म में बहुत अच्छा अभिनय किया था। यह फिल्म उस साल की सबसे अच्छे फिल्मों में से एक थी और कई अवार्ड्स की हकदार भी बनी थी।

पूजा भट्ट

साल 1991 में आई 90s की सबसे खूबसूरत अदाकारों में से एक और महेश भट्ट की बेटी पूजा भट्ट

Image Credit: indianexpress.com साल 1991 में आई 90s की सबसे खूबसूरत अदाकारों में से एक और महेश भट्ट की बेटी, पूजा भट्ट

महेश भट्ट की बड़ी बेटी पूजा भट्ट 90s की सबसे प्रतिभाशाली अभिनेत्रियों में से एक थी। साल 1991 में बतौर निर्देशक महेश भट्ट की दो सुपरहिट फ़िल्में रिलीज़ हुई थी – ‘दिल है कि मानता नहीं’ और ‘सड़क’। इन दो फिल्मों से भट्ट साहब ने अपनी बेटी पूजा भट्ट को बॉलीवुड में लॉन्च किया। दोनों ही फिल्मों में पूजा का अभिनय और उनके को-स्टार्स के साथ उनकी केमिस्ट्री सराहनीय थी। पूजा ने अपने काम से यह साबित कर दिया था कि वे महेश भट्ट की बेटी है। इस फिल्म से आमिर खान को भी अपने करियर का सबसे बड़ा ब्रेक मिला था। इस फिल्म के बाद आमिर खान की फैन फोलोइंग आसमान छूने लगी थी और बतौर रोमांटिक हीरो उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बना ली थी।

सुष्मिता सेन

फिल्म ‘दस्तक’ में सुष्मिता सेन

Image Credit: india-store.de

साल 1996 की रोमांटिक थ्रिलर ‘दस्तक’ में निर्देशक महेश भट्ट ने सुष्मिता सेन, मुकुल देव और शरद कपूर जैसे तीन बेहतरीन अभिनेताओं को लॉन्च किया था। फिल्म में मिस यूनिवर्स सुष्मिता एक मिस यूनिवर्स का ही किरदार निभा रही थी। यह फिल्म बॉक्स ऑफ़िस पर चल नहीं पाई थी लेकिन इस फिल्म में से हमे सुष्मिता सेन जैसी एक बेहद खूबसूरत अदाकारा मिली, जिन्होंने आगे चलकर अपने करोड़ों फैन्स के दिलों पर राज किया। साथ ही, मुकुल देव और शरद कपूर ने भी अपने करियर में बहुत सी सुपरहिट फिल्में की है।

अतुल अग्निहोत्री

फिल्म ‘सर’ से अतुल अग्निहोत्री ने किया था बॉलीवुड में डेब्यू

Image Credit: static.toiimg.com फिल्म ‘सर’ से अतुल अग्निहोत्री ने किया था बॉलीवुड में डेब्यू

साल 1993 में महेश भट्ट निर्देशित ‘सर’ से अतुल अग्निहोत्री ने बॉलीवुड में डेब्यू किया था। इस फिल्म में पूजा भट्ट, नसीरुद्दीन शाह और परेश रावल भी मुख्य भूमिकाओं में थे। फिल्म में अतुल अग्निहोत्री ने पूजा भट्ट के प्रेमी के किरदार में बेहतरीन अभिनय किया था। इस फिल्म के बाद से अतुल अग्निहोत्री ने बतौर निर्देशक, निर्माता और अभिनेता बहुत सी फ़िल्में की। अतुल के अलावा यह फिल्म परेश रावल के लिए भी बेहद ख़ास थी क्योंकि यह उनके करियर की ब्रेकथ्रू फिल्म थी। फिल्म में महेश भट्ट परेश रावल का बहुत ही अलग अंदाज़ दर्शकों के सामने लेकर आए थे।

इन सबके अलावा महेश भट्ट ने बहुत से अभिनेताओं के करियर को सफलता दिलाई है। इमरान हाशमी, बिपाशा बसु, डीनो मोरिया,संजय दत्त, कुमार गौरव, जूही चावला, आशुतोष राणा, मनोज बाजपेयी, मल्लिका शेरावत, कुनाल खेमू और कंगना रनौत जैसे कई अभिनेताओं के करियर में महेश भट्ट का योगदान बहुत महत्वपूर्ण रहा है।

साथ ही, महेश भट्ट द्वारा बॉलीवुड को दी गयी सबसे विशेष अभिनेत्री है उनकी बेटी और आज के समय की सबसे बड़ी सुपरस्टार आलिया भट्ट। भले ही महेश भट्ट ने उन्हें लॉन्च ना किया हो, लेकिन आज उनकी बेटी उनके ही नाम को रोशन कर रही हैं। हालांकि बहुत ही जल्द वो अपने पिता के निर्देशन में बन रही फिल्म सड़क-2 में देखने को मिलेंगी।

बॉलीवुड के ऐसे टेलेंटेड निर्माता-निर्देशक को आवाज़.कॉम जन्मदिन की शुभकामनाएं देता हैं।

अपने सपनो को पूरा करने की ताक़त रखती हूँ। अभिलाषी हूं और नई चीज़ों को सीखने की इच्छुक भी। एक फ्रीलान्स एंकर। मेरी आवाज़ ही नहीं, बल्कि लेखनी भी आपके मन को छू लेगी। डांसिंग और एक्टिंग की शौक़ीन। माँ की लाड़ली और खाने की दीवानी।