भारत पर लगातार कई सालों तक हमला करने वाले आतंकवादी, यानी भारत के ओसामा बिन लादेन को पकड़ने के लिए अर्जुन कपूर सहित 5 लोगों की टीम तैयार है। दरअसल, अर्जुन कपूर अपनी अगली फिल्म इंडियाज मोस्ट वांटेड लेकर आ रहे हैं, जिसका निर्देशन राज कुमार गुप्ता ने किया है। फिल्म की कहानी सच्ची घटना से प्रेरित है। यह फिल्म उन अनसंग हीरो के बारे में है, जो अपनी आइडेन्टिटी बताए बिना, देश के लिए बहुत कुछ करते हैं। यह फिल्म ऐसे ही पांच अनसंग हीरो की कहानी है, जो एक खूंखार आतंकवादी को बिना मारे पकड़ कर सरकार के हवाले करते है। आज ही इस फिल्म का ट्रेलर सोशल मीडिया पर रिलीज़ किया गया। फिल्म में अर्जुन, प्रभात सिंह नाम के अफसर (एजेंट) का रोल निभा रहे हैं। आप भी देखें इस फिल्म का ट्रेलर..

हालांकि फिल्म में किस आतंकवादी की बात की जा रही है, इस बात को काफी सस्पेंस रखा जा रहा है। लेकिन अगर खबरों पर यकीन करें तो यह फिल्म यासीन भटकल की कहानी पर आधारित है। लेकिन, जहां एक तरफ अर्जुन अपने फैंस के लिए आतंकवाद के खिलाफ यह फिल्म लेकर आए है, वहीं यह इत्तेफाक ही है कि आज (गुरुवार) ही के दिन संयुक्त राष्ट्र संघ में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कर दिया है। दरअसल, मसूद भारत में हुए पुलवामा हमलों के साथ-साथ कई हमलों के लिए ज़िम्मेदार है और भारत उसे आतंकवादी करार देने की मांग काफी समय से कर रहा था। इस मौके पर फिल्म के निर्देशक राज कुमार गुप्ता और अर्जुन कपूर दोनों ने ही मसूद को आतंकवादी करार दिये जाने को, भारत सरकार की जीत बताया है। अर्जुन कपूर ने बताया, “ यूएन ने मान लिया है जो हम कई सालों से बोल रहे थे, तो यह भारत की जीत है कि उसे आतंकवादी घोषित किया है, इससे बड़ी जीत क्या होगी। मैं ही नहीं हर हिन्दुस्तानी इस बात को लेकर खुश है।” वहीं राजकुमार गुप्ता ने भी माना कि यह भारत के लिए जीत है। “भारत इस आदमी को कई समय से आतंकवादी घोषित करवाना चाहता था और वो आज हुआ है, जो बहुत ही बड़ी जीत है। मुझे लगता है कि जो इतनी सारी मौतों के लिए ज़िम्मेदार है उसको सजा ज़रुर मिलेगी और लोगों को न्याय ज़रुर मिलेगा।”

आतंकवाद के खिलाफ लड़ रहे ऐसे ही अनसंग हीरो पर बनी अर्जुन कपूर की यह फिल्म 24 मई को रिलीज़ होगी। इस फिल्म का निर्देशन करने वाले राजकुमार इस फिल्म से पहले भी नो वन किल्ड जैसिका, रेड और आमिर जैसी फिल्मों का निर्माण कर चुके है, जिसे दर्शकों ने बेहद सराहा था।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।