आजकल हर कोई फिट और स्वस्थ रहना चाहता है और इसके लिए लोग कई तरीके अपना रहे हैं, जिसमें जिम, योगा, एरोबिक्स और जुम्बा भी शामिल है। डांस पर आधारित फिटनेस प्रोग्राम ज़ुम्बा इन दिनों सबसे ज्यादा प्रचलित है और लोगों को खूब पसंद भी आ रहा है। ज़ुम्बा फिटनेस, फन, मस्ती और डांस का एक मज़ेदार कॉम्बो पैक, जो ना सिर्फ कैलोरी कम करता है बल्कि तनाव को भी दूर करता है।

क्या हैं ये ज़ुम्बा

ज़ुम्बा दरअसल लैटिन, इंटरनेशनल म्यूजिक और डांस मूव्स का एक बेहतरीन कॉम्बिनेशन है जिसमें डांस के चार प्रकार हैं जैसे मेरेंगुए ,कुम्बिआ, रेगेतोन और सालसा शामिल हैं। लोगों की उम्र, क्षमता, ताकत, शारीरिक बनावट और तनाव के अनुसार नौ तरह के जुम्बा फिटनेस प्रोग्राम डिज़ाइन किए गए हैं।

क्यों है यह इतना लोकप्रिय

आजकल की जीवनशैली में जहां युवाओं को पढ़ाई और नौकरी का तनाव है, महिलाओं को बच्चो की चिंता और पुरुषों को कामकाज की। ऐसे में ज़ुम्बा हर स्तर पर तनाव को कम करता है। ज़ुम्बा करते हुए लोग कुछ समय के सभी प्रकार के तनाव भूलकर मज़े के साथ वर्कआउट में मग्न हो जाते हैं। य‍ह आपका सारा तनाव दूर कर देता है और शरीर की आंतरिक प्रणाली जैसे दिल व हड्डियों को मजबूत करने के साथ-साथ मानसिक सेहत को बेहतर बनाता है। ये आपके शरीर को सुडौल करने के साथ ही आपके चेहरे की चमक भी बढ़ाता है और शरीर में चुस्ती भी लाता है।

ज़ुम्बा सिखाने के लिए लाइसेंस ज़रूरी

जाने माने ज़ुम्बा इन्स्ट्रक्टर करण जोधानी का कहना हैं कि ज़ुम्बा केवल एक्सरसाइज ही नहीं, बल्कि इसे आप एक घंटे की पार्टी समझ सकते हैं, जिसमें आप अपने दोस्तों एवं साथियों के साथ मौज-मस्ती करते हुए 800-1000 कैलोरी बर्न कर सकते हैं।”

करण का कहना हैं कि,” ज़ुम्बा शुरू करते समय ध्यान रखें कि जो आपको ज़ुम्बा सीखा रहा हैं, उसके पास इसे सिखाने का लाइसेंस जरूर हो। ज़ुम्बा इन्स्ट्रक्टर बनने के लिए आपको ज़ुम्बा (एल एल सी) ये एक यू एस बेस्ड फॉर्म ट्रेनिंग है वो करनी होती हैं। भारत में ये ट्रेनिंग हर दो महीने में होती है और ट्रेनिंग देने वाले इन्स्ट्रक्टर बहार से आते है।”

ज़ुम्बा के साथ कुछ और भी करें

dance-zumba-fitness
डांस के दीवानों के लिए अब फिटनेस का नया फंडा जुंबा एरोबिक्स

करण का मानना हैं कि, “अगर आप चाहते हैं कि लोगों के बीच अपनी अलग पहचान बनानी हैं ,तो आप अपनी ट्रेनिंग में एक नया पन लाए जैसे मैं हर बार कोशिश करता हूँ कि मैं अपने क्लाइंट को ज़ुम्बा के साथ योगा और साथ में पौंड और तो और बॉलीवुड के गानो में ज़ुम्बा। एक बेहतरीन इंस्ट्रक्टर वही है जो अपने सभी क्लाइंट को मज़ेदार तरीके से डांस करवाए। अगर कोई डांस में कमज़ोर हो या फिर कोई बहुत ही अच्छा हो। सबको बराबर देखे और उन्हें एक नई ऊर्जा के साथ उन में जोश पैदा करे।”

18 साल के बाद आप चुन सकते इसे अपना करियर

ज़ुम्बा इन्स्ट्रक्टर के लिए आपको 18 साल से ऊपर का होना चाहिए। आपने किसी भी विषय में पढ़ाई क्यों न की हो लेकिन आपको ज़ुम्बा के लिए प्रोफेशनल ट्रेनिंग लेनी ही होगी। इसकी शुरुवात बेसिक से शुरू होते हुए कई लेवल है इसके लिए आपको कोर्स करना होगा बेसिक कोर्स 20 हज़ार से शुरू होकर 80 हज़ार तक चले जाता हैं। । आपको ज़ुम्बा की क्लासेस शुरू करने के लिए शुरू में एक इन्वेस्टमेंट करना होता हैं जिसके चलते आपको लाइसेंस मिलता है। ये लाइसेंस पुरे एक साल के लिए ही वैलिड रहता है। जिसे हर साल फिर से बनवाना पड़ता है।

जिन ग्लोबल कमिटी का मेंबर बनना ज़रूरी

zumba-and-folk-dance
ज़ुम्बा के साथ फोक डांस भी सीखाना ये आपको ज़्यादा लोकप्रियता बढ़ाएगा

करण बताते हैं कि,”ज़ुम्बा में एक जिन ग्लोबल कमिटी होती हैं उसका मेंबर बनना ज़रूरी होता है। इसके लिए आपको महीने के 1500 रूपये भरने पड़ते हैं। जिसके चलते हर महीने आपको ज़ुम्बा की नई तकनीकों और डेवलोपमेन्ट के बारे में पता चलता हैं। आपको नई नई कोरियोग्राफी, परिवर्तन और अंतराष्ट्रीय स्तर पर क्या नया चल रहा है। सीखने को मिलता है। ज़ुम्बा में कमाई की बात करे तो वो आपके कितने ज़्यादा क्लाइन हैं इस पर निर्भर करता है। बेसिक ३० हज़ार तो मील ही जाता हैं, बाकि आपकी मेहनत और सिखाने के अंदाज़ पर नर्भर हैं।

अगर आप भी बनना चाहते हैं ज़ुम्बा इन्स्ट्रक्टर तो ये ेआपके लिए अच्छा विकल्प हैं. जहा आप अपनी सेहत के साथ साथ दूसरों की सेहत का भी ख्याल रख कमा सकते हैं अच्छे पैसे।

पहचान छोटी ही सही लेकिन अपनी खुद की होनी चाहिए। इसी सोच के साथ जीती हूँ।अपने सपनों को साकार करने की हिम्मत रखती हूं और ज़िन्दगी का स्वागत बड़े ही खुले दिल से करती हूँ। बाते और खाने की शौकीन हूँ । मेरी इस एनर्जी को चार्ज करती है, मेरे नन्ने बच्चे की खिलखिलाती मुस्कुराहट।