बॉलीवुड में अपनी सेकंड इनिंग की शुरुआत कर चुकी माधुरी दीक्षित आज भी लाखों दिलों पर राज करती है। माधुरी अपनी खूबसूरत हंसी और अदाकारी के चलते लोगों के बीच अपनी जगह बना चुकी है और आज भी वे बॉलीवुड की टॉप अदाकाराओं को टक्कर देती नज़र आती है। आज इसी खूबसूरत और बेहद प्रतिभाशाली अदाकारा का 53 वां जन्मदिन है और इसलिए आज हम माधुरी के बारे में आपको एक ऐसी बात बताने जा रहे हैं, जिससे ये साबित होता है कि बॉलीवुड में चमचमाता करियर हासिल करने के लिए रिजेक्शन भी देखना पड़ता है और उस पर मेहनत करके खुद को पूरी तरह से बदलना भी पड़ता है।

पहले ही शो से किया गया था रिजेक्ट!

इस सीरियल का एक पायलट एपिसोड शूट किया गया था

credit: amazon.com

क्या आप कभी ये मान सकते हैं कि माधुरी को उनके पहले ही शो में रिजेक्ट कर दिया गया था? ये सच है। दरअसल माधुरी ने अपने करियर की शुरुआत में बेहद मेहनत की है और कई रिजेक्शन देखने के बाद उन्हें आज का ये मुकाम हासिल हुआ है। ये शो 1984 में दूरदर्शन चैनल पर प्रसारित किया जाना था, जिसका नाम था ‘बॉम्बे मेरी है’। इस सीरियल का एक पायलट एपिसोड शूट किया गया था, जिसमें माधुरी की पहली झलक दिखाई गई थी। लेकिन दूरदर्शन चैनल के अधिकारीयों ने इसे देखते ही रिजेक्ट कर दिया था।

क्यों हुआ था ये शो रिजेक्ट

इस शो में माधुरी के अलावा बेंजामिन गिलानी और अज़हर खान भी मौजूद थे

credit: bollywoodlife.com

कहा जाता है कि जब इस शो का पायलट एपिसोड जब दिखाया गया था, तो चैनल ने ये कहते हुए इसे रिजेक्ट कर दिया था कि शो की स्टार कास्ट इम्प्रेसिव नहीं है। यही वजह थी कि इसे आगे न बनाया गया, ना ही इसे टेलीकास्ट किया गया। हालांकि इस शो में माधुरी के अलावा बेंजामिन गिलानी और अज़हर खान भी मौजूद थे। इस सीरियल को डायरेक्टर अनिल तेजानी डायरेक्ट कर रहे थे, जिन्होने इस शो से पहले 1982 में दीप्ती नवल, प्राण और शक्ति कपूर के साथ ‘पार्टनर’ बनाया था।

ये थी रिजेक्शन के बाद की कहानी

माधुरी को 1984 में राजश्री प्रोडक्शन की फिल्म ‘अबोध’ से डेब्यू करने का मौका मिला

credit: scoopwhoop.com

कहते हैं ना कि जब आपको रिजेक्शन देखना पड़े, तो समझ लीजिये कि सफलता अगले पायदान पर है, ये बात माधुरी के लिए भी सच साबित हुई। इस शो से माधुरी अपना डेब्यू करने जा रही थीं, लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंज़ूर था। इस शो के पास ना होने के बाद माधुरी को 1984 में राजश्री प्रोडक्शन की फिल्म ‘अबोध’ से डेब्यू करने का मौका मिला। लेकिन इस फिल्म से नहीं, बल्कि माधुरी को लोगों के बीच पहचान मिली 1988 में आई सुपरहिट फिल्म तेज़ाब से। इस फिल्म के लिए माधुरी का नाम बेस्ट एक्ट्रेस के लिए फिल्मफेयर अवार्ड्स में नॉमिनेट किया गया।

पहली सुपरहिट फिल्म से पहले की थीं इतनी फ़िल्में

माधुरी ने अपनी पहली सुपरहिट फिल्म तेज़ाब से पहले 8 फ़िल्में की

credit: scoopwhoop.com

आपको जान कर हैरानी होगी कि माधुरी ने अपनी पहली सुपरहिट फिल्म तेज़ाब से पहले 8 फ़िल्में की, जिसमें उन्हें अलग-अलग रोल में देखा गया। इन फिल्मों में आवारा बाप, देवायन, मानव हत्या, स्वाति जैसी फ़िल्में थीं।

फिल्म इंडस्ट्री में उनका स्ट्रगल किसी से कम नहीं था

credit: scoopwhoop.com

भले ही माधुरी ने आज कई अवार्ड्स अपने नाम किये हों, लेकिन फिल्म इंडस्ट्री में उनका स्ट्रगल किसी से कम नहीं था। यही वजह है कि आज कैमरे के सामने आते ही सभी उनकी अदाकारी के कायल हो उठते हैं। आज उनके जन्मदिन के मौके पर हम आवाज़ डॉट कॉम की ओर से माधुरी दीक्षित को जन्मदिन की ढेरों शुभकामना देते हैं।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..