यूं तो स्पोर्टस पर बहुत सारी फिल्में बॉलीवुड में बन रही है, ऐसी ही अक्षय कुमार स्टारर फ़िल्म ‘गोल्ड’ बॉक्स ऑफ़िस पर जल्द ही रिलीज़ होगी। यह कहानी है 1948 की, जब स्वतंत्र भारत ने ओलंपिक में अपना पहला गोल्ड हासिल किया था। इस फिल्म का नया ट्रेलर हाल ही में रिलीज़ किया गया। यह ट्रेलर आपको भी राष्ट्रगान पर गर्व के साथ खड़े होने के लिए प्रेरित करेगा। ट्रेलर की शुरुआत एक बहुत ही खूबसूरत डॉयलॉग के साथ होती है, “लगभग 200 सालों तक हम ब्रिटिश के राष्ट्रगान पर खड़े हुए, लेकिन एक आदमी के सपने ने सभी अंग्रेजों को भारतीय राष्ट्रगान पर खड़ा कर दिया”। इस डॉयलॉग के बाद 55 सेकेंड का यह ट्रेलर 1948 के उस ऐतिहासिक दिन की एक झलक देता है।

फिल्म की कहानी 1948 की है। जब कृष्ण लाल के नेतृत्व में, लंदन गई भारतीय हॉकी टीम ने ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता था। उस दौरान सिर्फ एक आदमी के सपने ने भारतीय टीम को स्वर्ण पदक दिलाने में सहायता की थी, यह फिल्म उसी दौरान की कहानी को दिखाता है। इस फिल्म का निर्देशन रीमा कागती ने किया है, जो इससे पहले आमिर खान की फिल्म ‘तलाश’ का निर्देशन कर चुकी है।

इस फिल्म के रिलीज़ किए गए नए पोस्टर में, अक्षय कुमार अपने सीने से भारत का झंडा लगा कर खड़े हैं। अक्षय कुमार ने सोशल मीडिया पर आज इस फिल्म के ट्रेलर लॉन्च के डेट का घोषणा की, जिसके मुताबिक फिल्म का ट्रेलर 25 जून को लांच होगा।

दरअसल यह फिल्म 1948 के ओलंपिक में भारत की जीत के साथ-साथ, 1936 के ओलंपिक का भी जिक्र करती है, जब भारत ब्रिटिश के अधीन था और जर्मनी के खिलाफ भारत ने ओलम्पिक में हॉकी मैच जीता था। 1936 के उस दौरान के कोच, जब 1948 में भारतीय हॉकी टीम के मैनेजर बने, तो उन्होंने भारत को ओलंपिक में जीत दिलाई, सूत्रों के मुताबिक अक्षय का किरदार उन्ही की ज़िंदगी से प्रेरित है।

खास बात है कि अक्षय इस फिल्म से पहले, बेबी रुस्तम और एयरलिफ्ट जैसी देशभक्ति से जुड़ी फिल्में कर चुके है। उनकी कोशिश रहती है कि किसी सामाजिक मुद्दे या देशभक्ति की फिल्म को किया जाए। उनकी यह फिल्म भी ऐसे ही मुद्दे पर आधारित है। जिस तरह से फिल्म के टीज़र को पसंद किया जा रहा है, उससे यही लगता है कि इस 15 अगस्त को बॉक्स ऑफ़िस पर गोल्ड बरसेगा।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।