75 साल की उम्र में 102 साल लगना तो कोई नहीं चाहता होगा, लेकिन अपने किरदार को रीयालिस्टिक बनाने के लिए सितारें कई तरह के प्रयोग करते हैं। हाल ही में निर्देशक उमेश शुक्ला की फ़िल्म “102 नॉट आउट” के रिलिज़ हुए ट्रेलर में अमिताभ बच्चन और ऋषि कपूर के लुक ने लोगों का दिल जीत लिया। दोनो कलाकारों ने किरदार में ढलने के लिए प्रोस्थेटिक्स का इस्तेमाल किया है। बॉलीवुड में प्रोस्थेटिक्स का चलन काफी पुराना है और कई कलाकार इसका इस्तेमाल करते रहें हैं।

फिल्मों में इस्तेमाल होने वाला प्रोस्थेटिक आखिर क्या है?

प्रोस्थेटिक्स मेकअप का ही हिस्सा है। इसे करने की तकनीक मेकअप से बिल्कुल अलग है। ये अपने आप में एक कला है, जिसे करने के लिए एक ख़ास तरीकें के “फोम लेटेक्स” का इस्तेमाल किया जाता है, जिसकी सहायता से चेहरे के आकार के छोटे छोटे टुकड़े तैयार किए जाते हैं। इन टुकड़ों को चेहरे पर लगाकर प्रोस्थेटिक मेकअप किया जाता है। मेकअप की इस तकनीक के सहारे किसी भी इंसान को मोटा , पतला, बूढ़ा या जवान दिखाया जा सकता है। इसका चलन इंडस्ट्री मे काफी आम हो गया है।

कई सितारों ने लिया प्रोस्थेटिक का सहारा:

1. नहीं देखे होंगे ऐसे बाप- बेटे

ऋषि कपूर और अमिताभ बच्चन को तैयार होने में कई घंटे लगते थे

उमेश शुक्ला की आने वाली फ़िल्म “102 नॉट आउट” में अमिताभ और ऋषि कपूर मुख्य किरदार में दिखेंगे। फिल्म में दोनों किरदारों के लिए प्रोस्थेटिक्स का इस्तेमाल किया गया है। फिल्म में इन कलाकारों का मेकअप करने वाली प्रीतिशील का कहना है,“ बाप बेटे का लुक हमें दिखाना था। इसके लिए बाल्ड कैप ,चेहरे की झुर्रियां, नकली दांत और माथे पर पीछे की ओर खींची हुई हेयरलाईन तैयार की गई ,ये सब प्रोस्थेटिक्स के सहारे हुआ।”
ख़ास बात है कि ऋषि कपूर ने इस फिल्म से पहले “कपूर ऐण्ड सन्स” में भी प्रोस्थेटिक्स का इस्तेमाल किया था।

2. रणवीर सिंह – अलाउद्दीन खिलजी

चेहरे पर घाव और कई मीलों तक सफर करके थक चुके खिलजी को सुनहरी परदे पर दिखाने के लिये कई लुक आज़माये गए। लगभग 10 लुक टेस्ट के बाद खिलजी के इस लुक को फ़ाइनल किया गया

फिल्म “पदमावत” मे अलाउद्दीन खिलजी के किरदार में ढलने के लिए रणवीर का मेकअप उतना ही महत्वपूर्ण था, जितना की उसका कॉस्टयूम। इस फ़िल्म के लिये रणवीर का मेकअप करने वाली प्रीतिशील बताती हैं, “ऱणबीर के खिलजी किरदार के लिए कुछ ऐसा लुक तैयार करना था जो खतरनाक के साथ साथ लुभावना भी हो। हमने इस बात का ध्यान रखा कि ऐसा लुक हो जो उनकी एक्टिंग के साथ मिल कर उसे और निखार दे। हमे खिलजी के किरदार के लिए बहुत प्रशंसा मिली। एक योद्धा शासक या सिपहसालार जैसा दिखना चाहिये वैसा ही हम रणवीर को बनाना चाहते थे।”

3. जब राजकुमार की उम्र 10 गुना ज़्यादा हो गई

राजकुमार को लगभग 8 धंटा लिक्विड डाइट के सहारे रहना पड़ता था क्योंकि प्रोस्थेटिक लगाने के बाद कुछ भी खाना पीना काफी मुश्किल हो जाता है।

फिल्म राब्ता के लिए 33 साल के राजकुमार राव को 324 साल का किरदार निभाना था। 324 साल के आदमी के किरदार में आने के लिए 33 साल के राजकुमार को 4 से 5 घंटे लगते थे। फिल्म में अपने किरदार पर बात करते हुए राजकुमार ने बताया, “ मुझे प्रोस्थेटिक लगाने में 5 से 6 घंटे लगते थे।उसके बाद जब मैं शूटिंग शुरु करता था तो प्रोस्थेटिक्स के अंदर मैं पसीना पसीना हो जाता था। इसके लिए आप में बहुत सहनशक्ति होनी चाहिए, हालांकि मुझे ये करने मे बहुत मज़ा आया”।  भले ही फ़िल्म राब्ता बाक्स ऑफ़िस पर अच्छा न कर पाई हो ,लेकिन राजकुमार के इस लुक को लोगों ने काफी सराहा।

4. कभी 102 तो कभी 12 साल के बिग बी

फिल्म “पा” मे प्रोस्थेटिक्स के लिये 4 घंटे का समय लगता था। इसे लगाने के बाद कुछ भी खाना मुश्किल हो जाता था

साल 2009 मे रिलिज़ हुई फ़िल्म “पा” में अमिताभ बच्चन ने प्रोजेरिया से पीड़ित 12 साल के बच्चे “औरो” का किरदार निभाया था ,जिसके लिए प्रोस्थटिक्स का इस्तेमाल किया गया। औरो के लुक के लिए विदेश से मशहुर प्रोस्थटिक मैन”स्टीफन डयुपईस” (Stephen Dupuis) और उनकी टीम को भारत बुलाया गया था । महानायक का पिछले 45 साल से मेकअप कर रहे उनके मेकअप मैन दीपक सावंत बताते हैं, “8 टुकड़ों को मिलाकर बच्चन साहब का फेस प्रोस्थेटिक बनाया गया था। नाक,कान,गाल और ठोढी जैसे 8 टुक़डों को उनके चेहरे पर लगाया जाता था। इसे लगाने में 5 घंटे लगते थे और निकालने में 3 घंटे। खास बात है कि इसे लगाने के बाद उन्हें पूरा दिन लिक्विड डाइट पर रहना पड़ता था।”

5. शाहरुख़ का गौरव प्रोस्थेटिक से बना

शाहरुख़ के प्रोस्थेटिक को तैयार करने के लिए सबसे बड़ी चुनौती थी उनके गालो का डिम्पल, जिसे प्रोस्थेटिक टीम छुपाना नहीं चाहती थी। कुछ ऐसा लुक चाहिए था कि उनका डिम्पल बरकरार रहे

साल 2016 मे शाहरुख़ खान की फ़िल्म “फैन” में आर्यन खन्ना के फैन के किरदार गौरव के लिए प्रोस्थेटिक का इस्तेमाल किया गया था। विदेश से ख़ासतौर पर भारत बुलाई गई ग्रेग कोनम और उनकी टीम ने शाहरुख के डिम्पल के साथ छेड़छाड़ न करते हुए उनके चेहरे को भरावदार दिखाने के लिए प्रोस्थेटिक्स का इस्तेमाल किया। शाहरुख़ ख़ान को 4 से 5 घंटे तैयार होने में जाते थे ,वही इस लुक के साथ उन्हें 8 से 10 घंटा शूटिंग भी करनी होती थी।

6. ऋतिक के प्रोस्थेटिक्स की धूम

ऋतिक ने कई फिल्मों में प्रोस्थेटिक्स का सहारा लिया

फ़िल्म “क्रिश” का मास्क प्रोस्थेटिक्स की सहायता से तैयार किया गया था। इस मास्क को बनाने वाले नाहुष पिसे बताते हैं,“ ऋतिक के लिए कई तरह के मास्क तैयार किए गए। ये आसान काम नहीं था। कई बार वो खुश होते, तो कई बार नाखुश। कड़ी मेहनत के बाद क्रिश का मास्क बना, लेकिन ऋतिक इस पूरी प्रक्रिया में  इन्वालव रहे।”
हालाकि ऋतिक ने यशराज की फ़िल्म धूम 2 के लिए, बौना ,बूढ़ी औरत और बूढ़े आदमी जैसे कई किरदारों के अलावा फिल्म “क्रिश” में जवान और बूढ़े रोहित खन्ना के लुक के लिए भी प्रोस्थटिक्स का इस्तेमाल किया था।

7. प्रोस्थटिक्स की मदद से हुई विद्या और ऋचा प्रेगनेंट

फिल्म “गैंग्स ऑफ वासेपुर” मे बनाया गया सिलिकॉन का बैली प्रोस्थेटिक्स लगभग 2 किलो का था। इतना भार पेट पर बांधे रखना मुश्किल जरुर है लेकिन ये काफी रियालिस्टिक लुक देता है

फ़िल्म “कहानी’ और “गैंग्स ऑफ वासेपुर” मे विद्या और ऋचा की प्रेगनेंट बैली के लिए प्रोस्थेटिक का इस्तेमाल किया गया। फ़िल्मों मे अक्सर प्रेगनेंट बैली को दिखाने के लिए तकिए का इस्तेमाल होता है, लेकिन वो रियालिस्टिक लुक नहीं देता।

इन सितारों के साथ साथ प्रियंका चोपड़ा ने फिल्म “सात खून माफ़” , कमल हासन ने “ चाची 420” और “ दशावतार” में प्रोस्थेटिक्स का इस्तेमाल किया था। आपको भी अगर किसी फिल्म का प्रोस्थेटिक मेकअप पसंद हो, तो हमें ज़रूर बताईए।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।