हाल फिलहाल में सरोज खान के बयान के बाद कास्टिंग काउच को लेकर चर्चा फिर से शुरू हुई है। ऐसा नहीं कि यह मुद्दा नया हो लेकिन समय समय पर इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के बयान और उनकी राय इस मुद्दे को फिर से खबरों में ला देती है। हर कोई इसकी शिकायत करता है या फिर इंडस्ट्री में इसके मौजूद होने की बात करता है, लेकिन कई लोगों की फेवरेट एक्ट्रेस और यूथ आइकॉन आलिया ने लड़कियों को सलाह दी है ।आलिया के मुताबिक, “इंडस्ट्री में यह है या नहीं इस बात पर बहस कभी खत्म नहीं होने वाली,लेकिन एक बात साफ है कि स्ट्रगल के दौरान आपका फायदा उठाया जाए ऐसा होता है।”

क्या सिर्फ फिल्म इंडस्ट्री ही इसका शिकार है?

अपने छह साल के करियर में कई तरह के रोल निभा चुकी हैं आलिया

25 साल की आलिया फिल्मकार महेश भट्ट और सोनी राज़दान की बेटी है। साल 2012 में उन्होंने करण जौहर की फिल्म स्टूडेंट ऑफ द ईयर से इंडस्ट्री में डेब्यू किया। उनकी अगली फिल्म राज़ी 11 मई को रिलीज होगी, जिसका निर्देशन किया है मेघना गुलजार ने। कास्टिंग काउच और स्ट्रगल के दौरान होने वाली दिक़्क़तों पर युवाओं को सलाह देने वाली आलिया का मानना है कि, “इस मुद्दे पर बार-बार चर्चा करने से ऐसा लगता है कि मानो फिल्म इंडस्ट्री काम करने के लिए अच्छी जगह नहीं है,जो बिल्कुल गलत है। क्योंकि ऐसा केवल फिल्मों मे नहीं हर इंडस्ट्री और भारत में ही नहीं विदेशों में भी होता है कि लोग आपता फायदा उठाने की कोशिश करते हैं।”

चुप क्यों हो, आवाज़ उठाओ

चुप रहने से इस बात को और बढावा मिल सकता है

हालांकि आलिया का मानना है कि सिर्फ लड़कियां ही नहीं लड़के भी इसका शिकार होते हैं। खुद को लकी मानने वाली आलिया अपने सपने को पूरा करने के लिए संघर्ष करने वाले लड़के और लड़कियों को आवाज़ उठाने की सलाह देती हैं।आलिया की माने तो, “मैं सिर्फ युवा लड़कियों को कहना चाहूंगी कि खुद में विश्वास रखें। कभी भी ऐसा कुछ आपके साथ हो तो अपने परिवार को सबसे पहले बताएं और आधिकारिक रूप से इसकी शिकायत दर्ज करें। जिससे आपके साथ ही नहीं किसी भी लड़की के साथ ऐसा ना हो।”

कास्टिंग काउच के खिलाफ आवाज उठाने की सलाह देने वाली आलिया मानती है किसी भी समस्या का समाधान चर्चा करके नहीं, बल्कि इसके खिलाफ आवाज़ उठा कर ढूंढा जा सकता है।जाहिर है इस मुद्दे पर आलिया कि यह सलाह उन युवा लड़कियों तक ज़रूर पहुंचेगी, जो अपने सपनों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहीं हैं।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।