90 के दशक से जुड़ा हर एक व्यक्ति बॉलीवुड के जादू को पहचानता है। 90’s बॉलीवुड का वो दौर था जब एक से एक बेहतरीन फ़िल्में बनती थी। 1990 से लेकर 1999 तक के समय को बॉलीवुड के लिए गोल्डन एज माना जाता है क्योंकि इन 10 सालों में आई ज़्यादातर फिल्मों ने दर्शकों के मन में अपनी छाप छोड़ी है। आज भी जब हम ‘हम आपके है कौन’ के प्रेम और निशा को देखते हैं तो हमारे चेहरे पर मुस्कान आ जाती है। आज भी हम मानते है कि अगर दो लोगों के बीच प्यार हो तो राहुल और अंजली जैसा हो।

90 का दशक हम सभी दर्शकों के लिए हमेशा स्पेशल रहेगा क्योंकि ना सिर्फ उस दौर की फ़िल्में, बल्कि उस दौर के कलाकार भी बेहतरीन थे। आज भी बॉलीवुड में उनका स्थान सबसे ऊंचा हैं। हालांकि वैसी फिल्में तो आज-कल नहीं बनती लेकिन हमे ख़ुशी है उस ज़माने में आई अभिनेत्रियां आज भी बॉलीवुड पर अपना जादू बिखेर रहीं हैं। उन्होंने साबित किया है कि उम्र से आपकी कला का कोई वास्ता नहीं होता।

काजोल – द अनफॉरगेटेबल ब्यूटी

‘दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे’ की सफलता के बाद काजोल का नाम घर-घर में गूंजता था। काजोल भले ही बॉलीवुड की दूसरी अभिनेत्रियों की तरह सुन्दर नहीं थी, लेकिन उनका अद्वितीय अभिनय, सांवला रंग, अल्हड़ अंदाज़ ही था जो उन्हें दूसरों से अलग रखता था। चाहे वो ‘गुप्त’ की सीरियल किलर हो या ‘कुछ कुछ होता है’ की टॉमबॉय अंजली, काजोल ने हमेशा ऐसे ही किरदार किये है जिन पर उन्हें पूरा भरोसा था। उन्होंने अपनी सफलता को कभी अपने सर पर नहीं चढ़ने दिया ,यही कारण है की आज भी वह इंडस्ट्री में मज़बूती से खड़ी है। काजोल ने तब फिल्मी इंडस्ट्री छोड़ शादी कर मां बनने का फैसला लिया, जब वह अपने करियर की सफलताओं के चरम पर थी। भले ही हाल ही में आई उनकी फ़िल्में बॉक्स ऑफिस पर कमाल ना दिखा पाई है लेकिन वे अपने दमदार व्यक्तित्व से दुनिया भर में प्रसिद्ध है।

तब्बू – द क्वीन ऑफ ऑफ-बीट फिल्म्स

जहां दूसरी अभिनेत्रियां वो फ़िल्में कर रही थी जो कमर्शियल हिट्स होगी, वहीं तब्बू ने अपने लिए एक दूसरा रास्ता चुना था। सावली सी इस हसीना ने बॉलीवुड में अपना पहला कदम साल 1980 में फिल्म ‘बाज़ार’ से रखा लेकिन उन्हें अपनी सही पहचान साल 1994 में आई फिल्म ‘विजयपथ’ से मिली। तब्बू का फिल्म ‘चाची 420’ में एक मजबूत इरादों वाली मां का किरदार हो या फिल्म ‘चांदनी बार’ में आपकी आंखे नम कर देने वाली एक बार डांसर की भूमिका हो, उनके किये किरदार काफी यादगार है। तब्बू एक आदर्श अभिनेत्री के रूप में अभी भी अपने आप को सिद्ध करती आ रही है। अंधाधुध, दृश्यम और हैदर जैसी फिल्मों में उनका काम देखकर दर्शकों के रोंगटे खड़े हो गए थे।

माधुरी दीक्षित – जिसने लाखों लोगों का दिल जीत लिया

वह आई, उन्होंने नृत्य किया, और सफलता प्राप्त कर लीं। माधुरी वो अभिनेत्री है जो आज भी अपनी अदा से दर्शकों को दीवाना बना सकती है। उनके गाने “एक दो तीन” और ‘धक् धक् करने लगा’ अभी भी सभी पीढ़ियों के लोगों के बीच लोकप्रिय है। उन्हें किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। वह ना केवल एक सुंदर अभिनेत्री हैं, बल्कि उन्होंने बॉलीवुड में अपनी सुंदर नृत्य की कला से भी बहुत नाम कमाया है। आज भी ‘दिल तो पागल है’ में माधुरी के कथक को देखकर दर्शक पागल हो जाते है। शादी के बाद आई उनकी फिल्म देवदास में उनकी चंद्रमुखी की भूमिका ने सबके होश उड़ा दिए थे। हाल ही में रिलीज़ हुई फिल्म ‘टोटल धमाल’ के बाद उनकी फिल्म ‘कलंक’ भी जल्द ही आने वाली है, जिसमे उनका साथ देंगे अभिनेता संजय दत्त।

जूही चावला – “kkkk… किरण” सदाबहार अदाकारा

जूही चावला ने अपने करियर की शुरुआत बतौर मॉडल की थी और साल 1984 में उन्होंने मिस इंडिया खिताब भी जीता था। जूही 90s की बेहतरीन अभिनेत्रियों में से एक हैं। उन्होंने ‘डर’, ‘क़यामत से क़यामत तक’, ‘इश्क’, ‘येस बॉस’ जैसी फिल्मों में अपना जादू बिखेरा है। साल 2016 में आई उनकी फिल्म ‘चाक एंड डस्टर’ बेशक बॉक्स ऑफ़िस पर कमाल ना कर पाई हो, लेकिन इस फिल्म से हमे यह साबित हो गया कि इस अभिनेत्री की अदा सदाबहार है। जूही हाल ही में रिलीज़ हुई फिल्म ‘एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा’ में अपने वही पुराने चुलबुले अंदाज़ में अभिनय करती नज़र आई।

ऐश्वर्या राय बच्चन – द ब्लू-आई ब्यूटी

यह भी एक ऐसी अदाकारा हैं जिसे किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। वह बच्चन परिवार की बहू है और एक प्यारी सी बेटी की मां है। हर प्रकार की फ़िल्में करके उन्होंने यह साबित किया है वह एक प्रतिभाशाली अभिनेत्री है। उन्हें पहले ‘हम दिल दे चुके सनम’ (1999) और फिर ‘देवदास’ (2002) के लिए फिल्म फेयर अवार्ड्स में सम्मानित भी किया गया है। उन्होंने लगातार अच्छी फ़िल्में देकर इंडस्ट्री में अपना नाम कमाया है। फिल्म ‘धूम 2’ में उनका बोल्ड अवतार हो या फिल्म ‘जोधा अकबर’ में उनकी सादगी, उनके सभी किरदार यादगार है।

कई नई प्रतिभाशाली अभिनेत्रियां आई, लेकिन प्रतिभाशाली अभिनेत्रियों का मुकाबला करना वाकई नामुमकिन है। इस बात में कोई दो राय नहीं कि नई अभिनेत्रियों के लिए इन अभिनेत्रियों के समान अपनी जगह बनाना भी एक चुनौती भरा काम है।