भारतीय किचन में आलू एक ऐसी सब्ज़ी मानी जाती है, जिसका उपयोग खाना बनाने में सबसे ज़्यादा होता है। आलू की सब्ज़ी, आलू के पराठे, आलू के चिप्स और तो और आलू की भुजिया, खाने की बात करें तो हम चारों ओर से आलुओं से घिरे हुए हैं। लेकिन मज़ेदार बात ये है कि आलू से बानी चीज़ों से हम कभी बोर नहीं होते। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कई बार आलू ज़्यादा खा लेने से ये हमारी सेहत को नुक्सान पहुंचाते हैं? आज हम आपको आलुओं से होनेवाले नुकसानों के बारे में बताएंगे, यदि आप भी आलू खाना पसंद करते हैं, तो ये खबर आपके ही लिए है।

ब्लड प्रेशर का खतरा

आप आलू खाते भी हैं, तो इन्हें हमेशा छिलकों के साथ खाना चाहिए
जैसा कि आप सभी जानते हैं आलू एक ऐसी सब्ज़ी है, जो किसी भी सब्ज़ी के साथ मिलकर उसका स्वाद ले लेती है। लेकिन एक अमेरिकन फ़ूड इंस्टीट्यूट की रिसर्च के मुताबिक पता चला है कि जो लोग आलू खाने के ज़्यादा शौकीन होते हैं, उन्हें हाई ब्लड प्रेशर का खतरा बना रहता है। इसीलिए आलू को सीमित मात्रा में खाना आपके लिए फायदेमंद होगा। यदि आप आलू खाते भी हैं, तो इन्हें हमेशा छिलकों के साथ खाना चाहिए। आलू के छिलकों में सबसे ज्यादा पोषक तत्व होते हैं, जिससे आपको एक बेहतर आहार मिलता है।

वज़न के साथ-साथ डायबिटीज़ का खतरा

शायद आप नहीं जानते कि आलू का ग्लाइसेमिक इंडेक्स बेहद ज़्यादा होता है, इसीलिए जो लोग मोटापे से परेशान हैं और वज़न कम करना चाहते हैं, उन लोगों को आलू के सेवन से बचना चाहिए। साथ ही ज़्यादा कैलोरी होने की वजह से आलू तेज़ी से आपका वज़न बढ़ाता है। वहीं आलू में बहुत बड़ी मात्रा में शुगर पाई जाती है, जिसकी वजह से ये शरीर में शुगर असंतुलित कर मधुमेह जैसी समस्या को न्योता दे सकता है। खास तौर आलू के ज़्यादा सेवन से आपको टाइप 2 डायबिटीज़ जैसी समस्या का सामना आपको करना पड़ सकता है।

पेट से जुड़ी समस्याएं

साथ ही आपको ब्लोटिंग की समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है
डॉ आर जैन की मानें तो आलू में चावल की तरह बड़ी मात्रा में स्टार्च पाया जाता है, जिसकी वजह से आपको पेट संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। खास तौर पर यह स्टार्च गैस की समस्या को बढ़ा देता है। साथ ही आपको ब्लोटिंग की समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है। इसलिए खास तौर मौसम में बदलाव के दौरान आपको आलुओं का सेवन नहीं करना चाहिए।

ज़हरीले होते हैं आलू

शायद आप नहीं जानते होंगे कि आलू में ज़हरीले तत्व भी होते हैं। यदि आप हरे रंग के आलू खाते हैं, तो यह आपके लिए ज़हरीले साबित हो सकते हैं। इन आलुओं में सॉलनीन, चैकोलिन और आर्सेनिक जैसे अल्कलॉइड पाए जाते हैं, जिसकी वजह से यदि आप ज़्यादा मात्रा में आलू कहते हैं, तो यह आपके शरीर में ज़हर बना सकते हैं।

एलर्जी की जड़ आलू

हे फीवर कभी-कभी होता है लेकिन यह एक बेहद चर्चित परेशानी है।
यह शरीर में एलर्जी को बढ़ाता है
आपको जानकर हैरानी होगी कि आलू खाने से आपको एलर्जी का सामना भी करना पड़ सकता है। जो लोग फूड एलर्जी से परेशान रहते हैं, उन लोगों को आलू से दूरी बनानी चाहिए। आलू में पाया जाने वाला प्रोटीन, जिसे पैटेटिन कहा जाता है, यह शरीर में एलर्जी को बढ़ाता है। इसलिए यदि आप फ़ूड एलर्जी से परेशान हैं, तो आपको आलू का ज़्यादा सेवन नहीं करना चाहिए।
इस तरह हमारी पसंदीदा सब्ज़ी होने के बाद भी आलू हमें कई तरह की स्वास्थ समस्याओं से जूझने पर मजबूर कर सकता है।
मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..