भारत का सिनेमा 100 साल का हो गया है। 1913 में बनी पहली मूक फिल्म “राजा हरिशचंद्र” से लेकर इस हफ्ते रिलीज़ हुई “पगलैट” तक हिंदी सिनेमा ने लंबा सफ़र तय किया है। कुछ लोगों को इन फिल्मों का गीत-संगीत, लार्जर देन लाइफ़ कैनवस, हक़ीकत से दूर काल्पनिक दुनिया और इसकी रंगीनयत पसंद आती है, और कुछ को इस सबसे अलग वास्तविकता के इर्द गिर्द घूमती, जीवन के कड़वे सच दिखाती फ़िल्में। हमारी इन्ही खूबसूरत हिंदी फिल्मों के १०० सालों का जश्न मनाते हुए हम आपके लिए लेकर आए हैं ये शो। इस शो में हम आपके लिए फ़िल्मी जगत से जुडी बहुत सी मज़ेदार बातें लेकर आए हैं।