अमृता प्रीतम को पंजाबी भाषा की पहली कवयित्री माना जाता है। उन्होंने लगभग 10 पुस्तकें लिखी है। इनकी लिखी कहानियों के कई भाषाओं में अनुवाद किए गए है। मानवीय भावनाओं के साथ साथ समय से आगे की सोच रखने वाली अमृता प्रीतम की कुछ कहानियां हम आपके लिए लेकर आए है।