क्या आपने कभी किसी को घूंसा या लात मारी है? या फिर आपने कभी भी मार्शल आर्ट या कोई दूसरी ऐसी कला को सीखने के बारे में सोचा है?

मार्शल आर्ट सिर्फ खुद को बचाने के काम ही नहीं आता, बल्कि ये आपके लिए करियर या फिर काम का ज़रिया भी बन सकता है।

दिगांता बिस्वास एक सेल्फ-डिफेंस इंस्ट्रक्टर हैं, जो असैनिक या सिविलियन सेल्फ डिफेंस में माहिर हैं। ये शीतो रयू कराटे में ब्लैक बेल्ट भी हैं और इज़राईली कॉम्बैट और सेल्फ डिफेंस में भी महारथ रखते हैं। इनके हिसाब से अगर आप मार्शल आर्ट में दिलचस्पी रखते हैं, तो ये आपका काम भी बन सकता है।

सीखना शुरू हुआ स्कूल में

diganta-biswas
खुद को बचाएं और काम में भी लाएं

दिगांता ने हाई स्कूल में ही कराटे सीखना शुरू कर दिया था और उन्हें इसमें बहुत मज़ा आ रहा था। यही वजह है कि उन्होंने मार्शल आर्ट में और भी बहुत कुछ सीखने का मन बनाया। कराटे में ब्लैक बेल्ट हासिल करने के बाद उन्होंने इज़राईली मार्शल आर्ट सीखना शुरू किया।

हालांकि उन्होंने १५ साल पहले ही ट्रेनिंग लेनी शुरू की थी, उनका मानना है कि सीखना कभी खत्म नहीं हो सकता। “मैं अभी भी प्रैक्टिस करता हूं और सिखाते हुए खुद भी सीख लेता हूं।”

क्या आप भी सिखाना चाहते हैं?

दिगांता को लगा कि ये एक ऐसी चीज़ है जो उन्हें दूसरों को भी सिखानी चाहिए, और आज वो अलग अलग वर्कशॉप और सेमीनार में सिखाते हैं।

इसमें काफी काम है

आजकल बेहतरीन मार्शल आर्ट इन्स्ट्रक्टर और टीचर की बहुत मांग है, ख़ास तौर पर तब, जब लोगों में सेल्फ डिफेंस को लेकर काफी जागरुकता आ रही हैं।

अगर आप भी ब्लैक बेल्ट है, तो आप टीचर ज़रूर बन सकते हैं। एक टीचर के तौर पर आपको ये समझना होगा कि जिन्हें आप सीखा रहे हैं, वह इसकी ट्रैनिंग किस लिए ले रहे हैं। मसलन के तौर पर, शायद एक १८ साल का लड़का इसकी ट्रेनिंग अपनी बॉडी बनाने के लिए ले रहा हो, वहीं कोई ३८ साल की महिला कर्मचारी शायद इसे अपनी सुरक्षा के लिए सीखना चाहती हो।

इसके अलावा आप इसकी ट्रेनिंग बतौर एक प्लेयर या फिर कोच बनने के हिसाब से भी ले सकते हैं। एम्.एम्.ए. एक ऐसी कला है, जो आजकल के नौजवानों में काफी लोकप्रिय है। अगर आप लोगों को सिक्योरिटी देने जैसे किसी बिज़नेस में हैं, तो वहां भी इसकी ज़रुरत पड़ती है।

अगर आपको मार्शल आर्ट थोड़ा भी पसंद है, तो पहले आप ये खुद अच्छे से सीख लें और फिर इसी कला को आगे बढ़ाते हुए इसमे अपना करियर बनाए।