जब बात चल रही हो प्रकृति की, तो फूल इसका एक ऐसा हिस्सा है, जो किसी भी व्यक्ति का मन मोह सकता है। फूल उपरवाले की एक ऐसी रचना है, जो बेहद कोमल और खूबसूरती का पर्याय माने जाते हैं। यही वजह है कि लोग इनकी खूबसूरती देख कर दंग रह जाते हैं। यदि आपको फूलों से बेहद लगाव है और आप इनके बीच कुछ वक्त बिताना चाहते हैं, तो देश के कुछ ऐसे हिस्से हैं, जहां जाकर आपको इनकी सुंदरता निहारने का मौका मिल सकता है। बस बुक करिये अपनी टिकिट और निकल पड़िये इस खूबसूरत सफर पर। आज हम आपको बताएंगे कुछ ऐसे बागों के बारे में, जो फूलों के लिए ही फेमस हैं।

मुग़ल गार्डन – राष्ट्रपति भवन (दिल्ली)

हाल ही में सरकार ने लोगों के लिए दिल्ली के राष्ट्रपति भवन में मुग़ल गार्डन खोलने का फैसला लिया है। यह गार्डन 6 फरवरी से आम जनता के लिए खोला जाएगा। आपको जान कर हैरानी होगी कि यहां आपको गुलाब और ट्यूलिप प्रजाति के रंग-बिरंगे फूल देखने को मिलेंगे। यहां आप जापान और जर्मनी के फूलों के अलावा हॉलेंड के रंगों को भी देख सकेंगे, लेकिन यहां 95 प्रतिशत फूलों की किस्में भारतीय होंगी। आम जनता की सहूलियत के लिए यहां आपको टिकिट लेने के लिए लाइन में लगने की ज़रुरत नहीं होगी। यहां की टिकिट आप ऑनलाइन बुक कर सकते हैं। यहां गुलाबों की 135 किस्में देख सकेंगे। इसमें हर्बल गार्डन, बोनसाई गार्डन, न्यूट्रिशन गार्डन, सर्क्युलर गार्डन मुख्य हैं। मुगल गार्डन में जाने का समय सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक निश्चित किया गया है।

रोज़ गार्डन – चंडीगढ़

रोज़ गार्डन बेहद खूबसूरत और 30 एकड़ में बना हुआ है

credit: amazonaws.com

चंडीगढ़ के सेक्टर 16 में बना हुआ रोज़ गार्डन बेहद खूबसूरत और 30 एकड़ में बना हुआ है। इस गार्डन में 17 हज़ार से ज़्यादा पौधे मौजूद हैं और 16 हज़ार से भी ज़्यादा गुलाब की किस्में पाई जाती है। इतनी बड़ी संख्या में गुलाब की अलग-अलग किस्में होने की वजह से ये एशिया का सबसे बड़ा रोज़ गार्डन माना जाता है। यहां आपको फरवरी माह में जाना चाहिए, क्योंकि इस दौरान सबसे ज़्यादा फूल खिलते हैं और इसी दौरान रोज़ फेस्टिवल का आयोजन भी किया जाता है। आपको जान कर हैरानी होगी कि यहां हर रोज़ 5 हज़ार से भी ज़्यादा सैलानी गुलाबों की इस खूबसूरती को देखने आते हैं।

डूंगरपुर बाग़ – राजस्थान

यदि आप राजस्थान में हैं और इस गर्म इलाके में फूलों की खूबसूरती निहारना चाहते हैं, तो आपको डूंगरपुर स्थित फूलों के बाग़ में ज़रूर जाना चाहिए। ये बाग़ सिर्फ सर्दियों में खोला जाता है, जहां कई तरह की फूलों की किस्में मौजूद हैं। यहां देश-विदेश के कई फूलों की किस्में देखने को मिलेंगी। यह बाग़ नैनीताल की तर्ज पर बनाया गया है, जो गेपसागर झील के किनारे बार्ड वाचिंग साइट पर बना हुआ है। यह गार्डन 2 से 3 बीघा ज़मीन पर बना हुआ है, जहां लोग मॉर्निंग और इवनिंग वॉक का लुत्फ़ उठाते हैं। यहां अमेरिका, लन्दन, नेपाल के अलावा जर्मनी से भी फूलों की किस्में लगाई गई हैं। आप यहां साल के 12 महीने जा सकते हैं, लेकिन फूलों की ज़्यादा से ज़्यादा किस्में देखने के लिए सर्दियों में जाना आपके लिए बेहतर होगा।

ट्यूलिप गार्डन – श्रीनगर

यह श्रीनगर से 8 किलोमीटर की दूरी पर बनाया गया है

credit: sirfnews.com

फिल्म सिलसिला, जिससे अमिताभ बच्चन और रेखा के अफेयर की चर्चा शुरू हुई थी, इस फिल्म के एक ख़ास हिस्से की शूटिंग श्रीनगर के ट्यूलिप गार्डन में की गई थी। यहां फेमस गाना ‘ये कहां आ गए हम’ शूट किया गया, जो उस समय में सबसे खूबसूरत गाना माना जाता था। यह ट्यूलिप गार्डन करीब 90 एकड़ में फैला हुआ है। यह श्रीनगर से 8 किलोमीटर की दूरी पर बनाया गया है। डल झील के किनारे बसे इस गार्डन में एक बार में 13 लाख ट्यूलिप एक साथ खिलते हैं, जिसका नज़ारा देखने में बेहद खूबसूरत होता है। इस गार्डन में आप 70 से ज़्यादा ट्यूलिप की किस्में देख सकते हैं। यहां हर साल मार्च के महीने में 7 दिनों तक ट्यूलिप फेस्टिवल मनाया जाता है, जिसमें कई हज़ार सैलानी भाग लेते हैं।

यदि आप फूलों की इस खूबसूरती के गवाह बनना चाहते हैं, तो आपको इन जगहों पर ज़रूर जाना चाहिए।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..