गोआ अपने खूबसूरत और मनमोहक समुद्र तटों के लिए दुनियाभर में मशहूर है। चमकती रेत, आसमान छूते नारियल के पेड़, बड़ी-बड़ी समुद्र की लहरें और स्वादिष्ट सी फूड यहां लोगों का मन बहलाते हैं। यहां की खूबसूरती ही ऐसी है कि आंखों में बस जाती है। ऐसी खूबसूरती के बीच गोआ में ऐसी कई जगहें हैं, जहां आप अपना हॉलीडे बिता सकते हैं। आइए जानते हैं गोवा की उन जगहों के बारे में,  जहां घूमना आपके लिए एक नया अनुभव होगा।

मीरामार बीच
यहां की खूबसूरती की वजह से इसे ‘गोल्डन बीच’ का नाम दिया गया है

पणजी के नज़दीक 15 किलोमीटर की दूरी पर बसा हुआ खूबसूरत समुद्री तट मीरामार अपनी मुलायम रेत, ताड़ के पेड़ और अरब सागर की नीली छटा के लिए जाना जाता है। यहां की खूबसूरती की वजह से इसे ‘गोल्डन बीच’ का नाम दिया गया है। यह बीच लोगों के बीच बेहद फेमस है। यहां घूमना लोगों को बेहद पसंद आता है।

मोबोर बीच
यहां आपको सितंबर से मार्च के बीच आना चाहिए।

रोमांच पसंद करनेवाले टूरिस्ट के लिए मोबोर बीच सबसे बढ़िया जगह है। यह गोवा के फेमस बीच में से एक है, जहां आपको हर वक्त भीड़ और टूरिस्ट दिखाई देंगे। यहां एडवेंचर पसंद लोग जिन्हें ‘वाटर स्कीइंग’, ‘वाटर सर्फिंग’, ‘जेट्स की’, ‘बनाना बम्प राइड’ और ‘पैरासेलिंग’ का चाव है, ऐसे लोगों के लिए यह घूमने का अच्छा विकल्प है। यहां आपको सितंबर से मार्च के बीच आना चाहिए।

वागातोर बीच
यह बीच बिग वागातोर और लिटिल वागातोर के नाम से जाना जाता है

वागातोर बीच मापुसा रोड के पास नार्थ गोवा में पणजी से करीब 22 किलोमीटर दूर है। यह बीच गोआ से अलग-थलग है, लेकिन ये टूरिस्ट की पसंदीदा जगहों में से एक है। यहां की सफेद रेत, काली लावा चट्टानें, नारियल और खजूर के पेड़ों की कतारें मनमोहक है। साथ ही यहां 500 साल पुराना पुर्तगाली किला है। यह बीच बिग वागातोर और लिटिल वागातोर के नाम से जाना जाता है। यहां स्थित चपोरा किले की ऊंचाई से यह बीच बेहद खूबसूरत दिखाई देता है।

मोरजिम बीच
यहां घूमने का अनुभव आपको जिंदगी भर के लिए यादें दे जाएगा

मोरजिम बीच को टर्टल बीच के नाम से भी जाना जाता है। यह नॉर्थ गोवा में स्थित है। यहां के हरे भरे वातावरण को देखकर कोई भी मोहित हो जाएगा। मोरजिम बीच इसीलिए भी खास है क्योंकि यह जगह कछुए की लुप्त होती प्रजाति ‘ऑलिव रिडले’  की प्रजनन स्थली है। यहां घूमने का अनुभव आपको जिंदगी भर के लिए यादें दे जाएगा।

तो देर किस बात की आप भी इस बार गोवा की यात्रा में इन बीचों को घूमना ना भूलें।

 

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणीप्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..