अगर आप मुंबई घूमने आए हैं और आप मुंबई का वड़ा पाव खाये बिना ही चले गए तो आपकी ये मुंबई यात्रा अधूरी ही रह जाएगी। वड़ा-पाव और मुंबई एक-दूसरे की पहचान बन चुके हैं। स्कूल- कॉलेज के छात्र हों या बॉलीवुड के सितारे, मिल मज़दूर हों या सियासी लीडर, सबके मन को भाता है ये वड़ा-पाव।

रोज़ाना कितने वड़ा पाव की बिक्री होती है, इसका अंदाजा लगाना बहुत मुश्किल है, लेकिन ये बात सच है कि इसकी खूब बिक्री होती है। हर वक़्त दौड़ता फिरने वाला मुंबई शहर तुरंत एनर्जी बूस्टर चाहता है। कुछ ऐसा जो फटाफट खाने को मिल जाए, जिसे चुटकियों में खाकर पेट भर जाए और जेब से ज़्यादा पैसे भी खर्च न हो। वड़ा पाव मुंबई की अपनी ही ईजाद की हुई डिश है। इसमें स्वाद भी है और पेट भरने का पूरा इंतज़ाम भी। कहीं तेज़ लहसुन की चटनी वाला वड़ा पाव मिलता है, तो कहीं हरी मिर्च वाला, लेकिन अब इन वडा पाव में और भी विविधता आ गई है। समय के साथ साथ ये भी मॉडर्न हो गए है। अब आपको सिर्फ आलू से बना वड़ा पाव ही नहीं, बल्कि कई और भी तरीके से बना वड़ा पाव खाने को मिलेंगे। जानते हैं कि कौन कौन से वड़ा पाव मिलते है मुंबई में , जिसे देख मुंह में पानी आ जाए।

जैन वड़ा पाव

जैन वड़ा पाव आपको घाटकोपर ईस्ट के तिलक रोड की खाऊ गल्ली में मिलेगा सिर्फ 12 रुपये में

जैन धर्म के लोग अपने खानें में आलू का इस्तेमाल नहीं करते है। इसलिए जैन वड़ा पाव को बनाने के लिए कच्चे केले का इस्तेमाल किया जाता है। कच्चे केले को इस्तेमाल करने का बड़ा कारण एक ये भी हैं कि कच्चा केला मीठा नहीं होता, जबकि पके हुए केले में मिठास रहने की शिकायत रहती है। वड़ा पाव मीठा न होकर तीखा ही रहे इसलिए कच्चे केला का इस्तेमाल जैन वड़ा पाव के लिए एकदम परफेक्ट है।

चायनीज़ वड़ा पाव

जंबो किंग की किसी भी शाखा में आपको मिलेगा , सिर्फ 12 रुपये में

चाइना का माल हो या फिर चाइनीस खाना, जो दीवानगी भारत में चाइना की इन चीज़ो के लिए है वो शायद ही कहीं और देखने को मिले। बच्चे, बड़े और बूढ़े सभी चाइनीस खाने के इस कदर शौकीन है कि आप भारत के किसी भी कोने में क्यों न चले जाए ,आपको कही भी चाइनीस खाना मिल ही जायेगा। सोचिए अगर चाइनीस खाने का स्वाद वड़ा पाव में भी मिले तो? भला इसे कौन नहींं खाना चाहेगा। इन्ही सब बातों को ध्यान में रखकर ईजाद हुआ चटपटा और लज़ीज़ चाइनीस वड़ा पाव।

चिकन वड़ा पाव

यह चिकन वड़ा पाव “शम्मी” के नाम से भी बहुत प्रसिद्द है।

दुनियाभर में ऐसे करोड़ों लोग होते हैं , जिन्‍हें अगर एक दिन भी नॉन वेज ना मिले तो उनका जीना मुश्‍किल हो जाता है। ऐसे लोग नॉन वेज के इस कदर शौकीन होते है कि हर पकवान में नॉन वेज ही ढूंढ़ते हैं। ऐसे ही लोगों के लिए है ये चिकन वड़ा पाव। हर किसी की जेब का ख़याल रखते हुए इसे बेचा जाता है सिर्फ 15 रुपये में।

करारा वेज वड़ा पाव

खस्ता और कुरकुरे होते ये वड़ा पाव

बच्चों के साथ ही युवाओं में फास्ट फूड के प्रति तेजी से लगाव बढ़ रहा है। आज की जनरेशन पिज़्ज़ा और बर्गर की दीवानी है। इसी को टक्कर देने के लिए करारा वेज वड़ा पाव बनाया गया है ,जो दिखता तो है बर्गर जैसा, लेकिन बर्गर नहीं। इसकी कीमत बाज़ार में मिल रहे पिज़्ज़ा और बर्गर से बहुत कम है। ये मात्र 15 रूपये में आपको मिल जाएगा। इस वड़ा पाव की ख़ासियत ये हैं कि इसे बहुत क्रिस्पी बनाने के लिए ब्रेड का इस्तेमाल किया जाता है। बारिश के दिनों में कड़क चाय के साथ करारा वेज वड़ा पाव खाने का अपना ही मज़ा है।

पहचान छोटी ही सही लेकिन अपनी खुद की होनी चाहिए। इसी सोच के साथ जीती हूँ।अपने सपनों को साकार करने की हिम्मत रखती हूं और ज़िन्दगी का स्वागत बड़े ही खुले दिल से करती हूँ। बाते और खाने की शौकीन हूँ । मेरी इस एनर्जी को चार्ज करती है, मेरे नन्ने बच्चे की खिलखिलाती मुस्कुराहट।