भले ही हिन्दी सिनेमा में डी गैंग पर ढेरों फिल्में बन चुकी हो, लेकिन डी कंपनी यानि दाउद इब्राहिम की कहानी बहुत ही जल्द वेब सीरीज़ के तौर पर बनकर दर्शकों के सामने होगी। इस बात की घोषणा खुद रामगोपाल वर्मा ने अपने सोशल मीडिया पर की है। ‘डी कंपनी’ पर बनने वाली इस वेब सीरीज़ को वह मधु मंतेना के साथ मिलकर बना रहे हैं।

10 एपिसोड की 5 पार्ट में बनाई जा रही इस वेब सीरीज में दाऊद इब्राहिम की ही नहीं, बल्कि पूरी डी कंपनी की कहानी देखने को मिलेगी। जिसे बहुत ही खास तरीके से दिखाया जाएगा। रामू ने इस बात की घोषणा करते हुए लिखा “डी कंपनी पर बन रही वेब सीरिज़, सिर्फ दाऊद अब्राहिम की बायोपिक ना होकर, डी कंपनी के उत्थान और उसके भारत की क्रिमिनल हिस्ट्री में सबसे खौफनाक ऑर्गनाइजेशन बनने की कहानी होगी।”

रामू आगे लिखते हैं “ कैसे दाऊद के एक सामान्य उग्र व्यक्ति से, पठान गैंग को पीछे छोड़ दुबई शिफ्ट होता है और कैसे वह बड़े हाई प्रोफाइल लोगों और सितारों से मिलकर, अपनी गैंग को ग्लैमरस और कॉरपोरेट लुक देता है। यह सब दिखाया जाएगा।”

रामू अंडरवर्ल्ड पर फिल्म बनाने में है माहिर

रामू की यह सीरिज़ इसलिए भी खास है क्योंकि अंडरवर्ल्ड पर इससे पहले भी कई रियलिस्टिक फिल्में वह बना चुके हैं। रामू कहते हैं “मैं अंडरवर्ल्ड पर आज से रिसर्च नहीं कर रहा हूं। 90 के दशक में जब मैंने ‘सत्या’ और ‘कंपनी’ भी बनाई थी, उससे भी पहले से मैं इन विषयों पर रिसर्च कर रहा हूं और डाटा इकट्ठा कर रहा हूं। स्क्रिप्ट पूरी हो चुकी है अब बहुत ही जल्दी शूटिंग शुरू की जाएगी।”

ज़ाहिर सी बात है कि इस सीरिज़ में डी कंपनी के अंडरवर्ल्ड माफिया बनने से लेकर उसके टैरर कंपनी बनने तक की पूरी जर्नी को दिखाया जाएगा। फिल्म में 1992 में गिराई गई बाबरी मस्जिद,1993 के दंगे, छोटा राजन का गैंग छोड़ना और दाऊद के खिलाफ खड़ा होना, इन सभी घटनाओं को फिल्म में शामिल किया जाएगा।

मधुबन मंतेना और रामगोपाल वर्मा एक साथ मिलकर इससे पहले फिल्म ‘रन’ और ‘रक्तचरित्र’ जैसी फिल्मों का निर्माण कर चुके है। हालांकि इस फिल्म की कास्टिंग की घोषणा नहीं की गई है, लेकिन ये बात तय है कि इस सीरिज़ में किरदारों को गैंग से असली नाम ही दिए जाएंगे।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।