शाहिद कपूर मेडिकल के छात्र बन कर बहुत ही जल्द बॉक्स ऑफ़िस पर आ रहे हैं और उनका नाम होगा कबीर सिंह। हालांकि इस फिल्म के टीज़र को लांच हुए एक ही दिन हुआ है, लेकिन वह यूट्यूब पर नम्बर एक पर छाया हुआ है। दरअसल, शाहिद कपूर की आने वाली अगली फिल्म कबीर सिंह को लोग बेहद पसंद कर रहे हैं। यह फिल्म तेलुगू फिल्म ‘अर्जुन रेड्डी’ की ऑफिशल रीमेक है, जो 21 जून को रिलीज़ होगी। फिल्म के टीज़र की शुरुआत में ही शाहिद की धमाकेदार एंट्री को दिखाया गया है। शाहिद का इस तरह का बिंदास अंदाज़ भले ही नया ना हो, लेकिन फिर भी लोगों को बेहद पसंद आ रहा है। आप भी देखे इस टीज़र की झलक

टीज़र से साफ है कि शाहिद कपूर, कबीर राजवीर सिंह नाम के डॉक्टर का किरदार निभा रहे हैं, जो अपने कॉलेज का अभी तक का सबसे बेस्ट छात्र रह चुका है, लेकिन इस टीज़र में उनके डॉक्टर के अंदाज़ को कम बल्कि उनके गुस्सैल और शराबी अंदाज़ को ज्यादा दिखाया गया है। इस फिल्म में शाहिद के साथ-साथ कियारा आडवाणी भी देखने को मिल रही है।

फिल्म अर्जुन रेड्डी की है रीमेक

यह फिल्म तमिल में भी बहुत जल्द बन कर तैयार होगी

Image Credit: Movie Time Guru

संदीप रेड्डी वंगा निर्देशित यह फिल्म तेलुगू अभिनेता विजय देवराकोंडा की फिल्म अर्जुन रेड्डी की रीमेक है, जो दो साल पहले साल 2017 में रिलीज़ हुई थी। उस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर तगड़ी कमाई की थी। फिल्म ‘अर्जुन रेड्डी’, अर्जुन रेड्डी देशमुख नाम के लड़के की कहानी थी, जो मेडिकल का छात्र था और अपने से जूनियर लड़की से प्यार कर बैठता है। हालांकि उसका प्यार सफल नहीं हो पाता और लड़की किसी और लड़के से शादी कर लेती हैं। प्यार में फेल हो जाने के कारण अर्जुन रेड्डी शराब पीने लगता है और हर छोटी छोटी बात पर गुस्सा होने लगता है। इसी कहानी पर शाहिद की कबीर सिंह है और उनका यही अंदाज़ इस फिल्म में देखने को मिल रहा है।

खास बात है कि तेलुगू फिल्म को वंगा ने ही लिखा है। दरअसल बतौर मेडिकल स्टूडेंट उनकी ज़िंदगी में घटी कई घटनाओं को उन्होनें अपनी इस फिल्म में शामिल किया है। इस फिल्म की कहानी लिखने में उन्हें लगभग 5 से 6 साल का समय लगा था। तेलुगू में लगभग 50 करोड़ के बजट में बनी इस फिल्म ने लगभग 510 करोड़ रुपए की कुल कमाई की थी। बॉक्स ऑफ़िस पर मिली इतनी बड़ी सफलता के बाद इस फिल्म को हिन्दी में तो बनाया गया है, लेकिन देखना होगा कि क्या वहीं सफलता यह फिल्म हासिल कर पाती है या नहीं।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।