रणबीर कपूर इंडस्ट्री में 10 साल पूरे कर चुके हैं। इस दौरान उन्होंने कई हिट और फ़्लॉप फिल्में हिंदी सिनेमा को दी है। बहुत ही जल्द वह संजय दत्त की बायोपिक ‘संजू’ में संजय दत्त का किरदार निभाते नज़र आएंगे। इस फिल्म में उनके काम को काफी पसंद किया जा रहा है। हालांकि रणबीर मानते हैं कि वह इस फिल्म से झिरों से एक नई शुरुआत करने जा रहे हैं।

आमिर, शाहरुख और सलमान की तरह मेरी एंट्री पर सिटी नहीं बजती


खुद को एक साधारण एक्टर मानने वाले रणबीर का मानना है कि वह अपने 10 साल के करियर में उन एक्टर में अपना नाम शामिल नहीं कर पाए, जिनके नाम पर फिल्मों को देखने भीड़ जुट जाती है। “मेरी एंट्री पर थियेटर में सीटी नहीं बजती। मैं आज भी छोटे शहरों में जाता हूं, तो लोग मुझे पहचान नहीं पाते। मेरी कोशिश है कि मैं ऐसी फिल्मों का हिस्सा बनु और ऐसी फिल्में करु, जो लार्ज ऑडियंस तक पहुंचे। मेरे लिए अगले दो-तीन साल बहुत ज़रूरी है। मैंने इससे पहले जो किया है वह भूल जाओ, मैं झिरो से शुरु कर रहा हूं।”

मुझे अपनी ज़िंदगी में कुछ निर्देशको से आगे बढ़ना होगा

रणबीर का मानना है कि इंडस्ट्री में 10 साल गुज़ारने के बाद अब उन्हें इस बात का एहसास हो चुका है कि उन्हें फिल्में अवॉर्ड्स के लिए नहीं, बल्कि दर्शकों के प्यार के लिए करनी है। फिल्म समीक्षकों के स्टार और अवार्ड पाने के लिए फिल्म करने की बात को कबूल करने वाले रणबीर मानते हैं कि उन्हें अपनी फिल्मों के चयन में आगे बढ़ने की ज़रूरत है। रणबीर बताते हैं, “मुझे चाहिए कि मैं सिम्पल किरदार करुं। अब समय आ गया है कि मैं इम्तियाज अली, अयान मुखर्जी और अनुराग बसु से आगे बढ़ कर, दूसरे निर्देशको के साथ काम करूं। मैं उनके साथ काम करके एक ही रूटीन में पड़ गया था और साथ ही उनके साथ ही काम कर रहा था। यह मेरे लिए ज़रूरी है कि उसे बाहर निकल कर कुछ नया करुं।”

आलिया को छोड़ किसी और को बनाना चाहते है अपना बेस्ट फ्रैंड

फिल्म ब्रह्मास्त्र’ में हैं साथ साथ
फिल्म ब्रह्मास्त्र’ में हैं साथ साथ

गुड ब्वॉय और लवर ब्वाय की अपनी इमेज को तोड़ने की कोशिश कर रहे रणबीर फिल्म ‘संजू’ के बाद, बहुत ही जल्द फिल्म ‘शमशेरा’ और ‘ब्रह्मास्त्र’ में नज़र आएंगे। फिल्म ‘शमशेरा’ में वो जहां एक डाकू का किरदार निभा रहे हैं, वही फिल्म ‘ब्रह्मास्त्र’ के लिए वह इसलिए बेहद खुश है क्योंकि इस फिल्म में वह अमिताभ बच्चन के साथ काम कर रहे हैं। इस फिल्म में उनके साथ उनकी लेड़ी लव आलिया भट्ट भी हैं। भले ही वह आलिया के साथ अपने रिश्ते के बारे में बात करना पसंद ना करते हो, लेकिन उन्होंने इस बात का एलान ज़रूर कर दिया है कि वह इस फिल्म के को-स्टार अमिताभ बच्चन को अपना बेस्ट फ्रेंड बनाना चाहते हैं। उनका दावा है कि वह इस फिल्म की शूटिंग के खत्म होने तक अमिताभ बच्चन को अपना बेस्ट फ्रेंड बना ही लेंगे। वह कहते हैं, “मैं उनको पटाने वाला हूं। उनके जैसा इंसान मैंने दुनिया में नहीं देखा। वह जिस तरीके से मन लगाकर काम करते हैं, वह काफी क़ाबिले तारीफ है। वह एक दिन 3 घंटे सिर्फ मुझे और आलिया को सीन्स के लिए क्यू देने के लिए रुके। उनके जैसा डेडिकेशन, ग्रेस और पेशन मैने किसी और में नहीं देखा।”

दादा की कमज़ोरीयों को भी दिखाया जाए, तो ही बननी चाहिए उन पर फिल्म

संजय दत्त की बायोपिक में काम करने वाले रणबीर का मानना है कि वह यह ज़रुर चाहते है कि उनके दादा राज कपूर पर भी बायोपिक बननी चाहिए, लेकिन उनका कहना है कि उनके दादा की भी कई ऐसी बातें थी, जिसको बताने में शायद उनका परिवार सहमत ना हो। रणबीर मानते है,”अगर बायोपिक में किसी इंसान की गलत चीज़े या कमज़ोरी ना दिखाई जाए, तो फिर वह बायोपिक क्यों बने? मेरे दादा के जीवन पर एक अच्छी फिल्म हो सकती है, लेकिन मैं मानता हूं कि उस तरीके से बने कि उनकी ज़िंदगी की हर बात बताई जाए। मेरी फैमिली अगर इस बात की सहमति दे तो ज़रूर अच्छी फिल्म बनेगी।”

फिल्म ‘संजू’ के बाद रणबीर कपूर ‘शमशेरा’ और ‘ब्रह्मास्त्र’ जैसी फिल्में तो कर ही रहे हैं, लेकिन उन्होनें इस बात के भी संकेत दिए कि वह बहुत ही जल्द एक पीरीयड कॉस्ट्यूम ड्रामा फिल्म में भी नज़र आएंगे। जिसकी घोषणा वह जल्द ही करेंगे।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।