करण जौहर की फिल्म कलंक के पिछले महीने हुए टीज़र के लांच के बाद से ही फिल्म के ट्रेलर का बेसब्री से इंतज़ार किया जा रहा था। 40 के दशक की प्रेम कहानी कहती यह फिल्म करण जौहर के पिता का सपना था। आज फ़िल्म के सभी सितारों की मौज़ूदगी में इस फिल्म का ट्रेलर लांच किया गया, जो फिल्म के टीज़र जितना ही खूबसूरत है। जहां लगभग 2 मिनट के इस टीज़र में किसी भी किरदार का कोई डायलॉग नहीं था, वहीं इस ट्रेलर से कुछ कुछ कहानी का अंदाज़ा आसानी से हो जाता है। आप भी देखे इस फिल्म के ट्रेलर की झलक।

लगभग 2.30 मिनट के फ़िल्म के ट्रेलर से एक बात तो साफ है कि यह एक मेगा बजट पीरियड ड्रामा फ़िल्म है। बड़े बड़े सेट, ख़ूबसूरत कॉस्ट्यूम और किरदारों का यह लुक आपको 40 के दशक में ले जाएगा। फ़िल्म के ट्रेलर से साफ है कि भले ही फिल्म में कई सितारें हैं लेकिन ये कहानी रूप यानी आलिया और ज़फर यानी वरुण की प्रेम कहानी हैं। हालांकि पिछले महीने लांच किए गए टीज़र में वरुण की आवाज़ में ‘कुछ रिश्ते कर्ज़ों की तरह होते हैं, जिन्हें निभाना नहीं चुकाना पड़ता है’ या फिर टीज़र के आख़िर में आलिया का ‘जब किसी और की बर्बादी खुद की जीत जैसी लगे, तो हमसे ज़्यादा कोई बर्बाद नहीं इस दुनिया में’ जैसे डायलॉग हों, तो इस बात का अंदाज़ा ज़रूर आ जाता है कि यह फ़िल्म कुछ सुलझे और अनसुलझे रिश्तों की कहानी है।

फिल्म के तीन गीत हो चुके है लांच

फिल्म के टाइटल ट्रेक कई दिनों तक ट्रैंड होता रहा

Image Credit: Kalank

जहां अक्सर फिल्म के ट्रेलर के बाद फिल्म के गीतों को लांच किया जाता है, वहीं करण जौहर की इस फिल्म के टीज़र लांच के बाद, फिल्म के तीन गीत लांच किये गए। पिछले हफ्ते प्रीतम के संगीत और अरिजीत ही आवाज़ से सजे कंलक के टाइटल ट्रेक को लोगों ने इतना पसंद किया कि वह लांच होने के कुछ घंटो में ही यूट्यूब पर ट्रेंड करने लगा। इस गीत के अलावा फिल्म के ‘घर मोरे परदेसीया’ और फ़र्स्ट क्लास को भी लोगों ने काफी पसंद किया।

40 के दशक की लवस्टोरी पर आधारित इस फिल्म को करण के पिता, यश जौहर 15 साल पहले बनाना चाहते थे, जिसे अब जाकर करण जौहर फिल्मी रूप दे रहे हैं। अभिषेक वर्मन निर्देशित यह फिल्म 17 अप्रैल को सुनहरे पर्दे पर रिलीज़ होगी।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।