जहां इन दिनों एक के बाद सितारों के बच्चे इंडस्ट्री में कदम रख रहे हैं, वहीं लगता है कि आमिर के बेटे जुनैद के लिए यह राह आसान नहीं। हो भी क्यो? परफेक्शन में विश्वास रखते आमिर खान, अपने बेटे से भी ऐसे ही परफेक्शन की उम्मीद रख रहे हैं। आमिर के मुताबिक जुनैद को अपनी पहचान खुद बनाने के साथ साथ, लोगों और मीडिया से बात करने से पहले खुद को साबित करना होगा। जहां इन दिनों आमिर खुद चार नई फिल्मों की कहानी पढ़ने में मशगूल है, वहीं वह अपने बेटे जुनैद के लिए भी एक अच्छी कहानी की तलाश में है।

आमिर के बेट को भी एक्टर बनने के लिए देना होगा स्किन टेस्ट

Aamir-Khan-with-Son-500x360
जुनैद तीन साल से थिएटर ये जुड़े रह चुके हैं

Image Credit: TellyChakkar

दरअसल आमिर के बेटे जुनैद पिछले तीन सालों से थिएटर से जुड़े हुए है, इतना ही नहीं उन्होंने अमेरिकन अकॉडमी से ड्रामेटिक आर्ट्स से दो साल की ट्रेनिंग भी ली है। लेकिन फिर भी आमिर का मानना है कि जुनैद को फिल्म में काम पाने के लिए स्क्रीन टेस्ट पास करना होगा। इतना ही नहीं बतौर पिता आमिर की ख़्वाहिश है कि वह फिल्मों में बतौर हीरो नहीं, बल्कि किरदारों की तलाश करे। आमिर के मुताबिक, “ जुनैद और मेरा टेस्ट फिल्मों को लेकर एक जैसा है। मैं चाहता हूं कि वो काम करे, खुद को कुछ साबित करे फिर लोगों से मीडिया से बात करे। उसे बात करने के अधिकार को कमाना होगा। मैं उसे ऐसा लीड एक्टर के तौर पर देखना चाहता हूं, जो कई किरदार करे। मैं खुद भी इसमें विश्वास रखता ही। मैं हीरो नहीं किरदारों को करने में विश्वास रखता हूं। मुझे तब ज़्यादा खुशी होती है कि जब मुझे लोग मेरे किरदार के नाम से बुलाते हैं। मुझे एहसास होता है कि मैं लोगों तक पहुंचने में सफल हो गया।”

मेरी फिल्म फ्लॉप होने की वजह से लोगों को मुझ पर भड़ास निकालने का मौका मिला

Thugs-Of-Hindustain-500x360
मेरी कई सालों बाद फिल्म फ्लॉप हुई है

Image Credit: TheSharpCorner

पिछले साल दीवाली पर बाक्स ऑफिस पर ठग्स ऑफ हिंदोस्तान के फ्लाप हो जाने के बाद अब आमिर 4 फिल्मों की कहानी सुनने में व्यस्त है। खास बात है कि पिछले कई सालों से हर फिल्म के साथ सफलता की सीढ़ी चढ़ रहे आमिर की यूं तो यह कई सालों बाद कोई फिल्म फ्लॉप हुई थी। हालांकि फिल्म के फ्लॉप के लिए वह किसी से नाराज़ नहीं, सिनेमाघर में उनके नाम से फिल्म देखने आते दर्शक को निराश करने के पीछे वह खुद को ही ज़िम्मेदार मानते है। आमिर के मुताबिक, “बहुत दिनों से मेरी फ्लॉप फिल्म भी नहीं आई थी, तो लोगों को भड़ास निकालने का भी मौका मिला। मैं मानता हूं कि इस नाकामयाबी से उभरने के एक ही चीज़ करनी है और वो है अच्छी फिल्म, जिसे करने का मैं प्लान कर रहा हूं। पहली बार मुझे 4 अच्छी कहानियां मिली है। हालांकि हर बार मुझे अच्छी फिल्म की कहानी ढूंढने में समय लगता है, लेकिन इस बार मुझे चार कहानियां मिली है।” खास बात है कि साल में एक ही फिल्म करते आमिर इस बार उनको मिली स्क्रीप्ट से इतने अधिक प्रभावित है कि वह एक से ज़्यादा फिल्म करने की सोच रहे है।

हर बार कुछ नया करने में विश्वास रखते आमिर की बतौर निर्माता रुबरु रोशनी नाम की फिल्म गणतंत्र दिवसे के मौके पर स्टार के सभी प्लेटफॉर्म पर दिखाई गयी, जिसे लोगों ने बेहद पसंद किया।

HFT हिन्दी की एडिटर, मनमौजी, हठी लेकिन मेहनती..उड़ नही सकती लेकिन मेरी कल्पनाशक्ति को उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। अपने महिला होने पर मुझे सबसे ज्यादा गर्व है। लिखना मेरा शौक है। लिखने के अलावा बेटे के साथ गप्पे मारना और खेलना मुझे बेहद पसंद है।