जॉब के लिए अप्लाई करना अपने आपमें एक बहुत ज़िम्मेदारी भरा टास्क है। जॉब को लेकर हम सभी किसी ना किसी से सलाह ज़रूर लेते हैं। यह सलाह कई बार बेहद काम की होती हैं तो कई बार अधिकांश लोगों के लिए यही सलाह गले की हड्डी बन जाती है। जी हां, आपको जॉब से संबंधित एक से एक सलाह मिल जाएंगी लेकिन यह तय आपको करना है कि इनमें से कौन सी सलाह आपके काम की है और कौन सी नहीं। आज हम आपको करियर एक्सपर्ट्स के माध्यम से कुछ ऐसी बातें बताने वाले हैं जो आपके बहुत काम आएंगी, मसलन करियर और जॉब इंटरव्यू से जुड़ी ऐसी सलाह जो आउटडेटेड हो चुकी हैं।

ऑब्जेक्टिव लिखना

अधिकांश लोग जॉब के लिए अप्लाई करते समय रिज्यूम में अपना करियर ऑब्जेक्टिव मेंशन करते हैं। एक्सपर्ट्स की मानें तो यह एक आउटडेटेड प्रोसेस है। किसी भी कंपनी को इस बात से मतलब नहीं कि आपके क्या ऑब्जेक्टिव हैं या आप क्या करना कहते हैं। कंपनी को मतलब होता है तो सिर्फ इस बात से कि आप जॉब से जुड़ी स्किल्स रखते हैं या नहीं ? आप कैसे कंपनी के काम आ सकते हैं ? इसलिए यदि आपको कोई सलाह दे और कहे कि रिज्यूम में अपना करियर ऑब्जेक्टिव लिखना चाहिए तो एक बार अच्छे से ठंडे दिमाग से सोचें और फिर निर्णय लें।

सैलरी छिपाना

आउटडेटेड सलाह में दूसरे नंबर की सलाह है, सैलरी छिपाना। जी हां, कई लोग ऐसी सलाह देंगे कि आपको अपने रिज्यूम में सैलरी मेंशन नहीं करनी चाहिए। यह एक आउटडेटेड सलाह है। जॉब में अप्लाई करते समय आप जितनी अधिक पारदर्शिता रखेंगे आपके वह उतने ही काम आएगी। इसलिए आप जिस भी जॉब के लिए अप्लाई कर रहे हैं वहां खुलकर सैलरी की बात करें। बेहतर होगा कि आप रिज्यूम में अपनी स्किल्स के साथ ही अपनी वर्तमान सैलरी और एक्सपेक्टेड सैलरी मेंशन करें।

ढेर सारी जगहों पर एक साथ अप्लाई करना

आपको ऐसी सलाह देने वाले कई लोग मिल जायेंगे जो कहेंगे कि आपको ढेर सारी जगहों पर एक साथ अप्लाई करना चाहिए। यकीन मानिए यह आइडिया निरर्थक है। आपको इसकी जगह सिर्फ चुनिंदा जॉब्स के लिए, जहां आपकी क्वालिफिकेशन और एक्सपीरियंस मैच हो रहा हो, वहां अप्लाई करना चाहिए। ऐसा करने से आपके चुने जाने की संभावना कई गुना अधिक होती है और आप बेहतर ढंग से फोकस्ड भी रहते हैं।

नौकरी के लिए आवेदन करने से पहले जान लें ये बातें

रिज्यूम छोटा होना चाहिए

रिज्यूम को बड़ा करने में नहीं दिक्कत
रिज्यूम को बड़ा करने में नहीं दिक्कत

यह एक ऐसी सलाह है जो लगभग सभी लोग देते हैं। जॉब सीकर्स को अक्सर यह कहा जाता है कि उन्हें आपने रिज्यूम को ज़बरदस्ती बहुत बड़ा नहीं बना देना चाहिए और इसे छोटा और शॉर्ट रखना चाहिए। हालांकि, एक्सपर्ट्स की मानें तो यह सलाह भी आउटडेटेड ही है। रिज्यूम में कुछ एक्स्ट्रा जानकारी यदि आप देना चाहते हैं और इसके लिए आपको कुछ एक्स्ट्रा पेजेस जोड़ने पड़ें तो ज़रूर जोडिए। अपनी स्किल्स के बारे में अधिक से अधिक लॉजिकल जानकारी देना आपका अधिकार है। इसलिए यदि ऐसा करने की प्रोसेस में रिज्यूम कुछ बड़ा हो भी जाए तो दिक्कत वाली बात नहीं है।

बाद में कॉल करें, ऐसा नहीं कहना चाहिए

आजकल अधिकांश इंटरव्यू टेलीफ़ोनिक ही होते हैं। ऐसे में कई बार लोग यह सलाह देते हैं कि हर हाल में फ़ोन अटेंड करना चाहिए और ऐसा न करना गलत इम्प्रेशन बनाता है। यह सच नहीं है। आप यदि किसी कारणवश किसी ऐसी परिस्थिति में हैं कि कॉल अटेंड नहीं कर सकते तो विनम्रता से अपनी बात रखकर आगे का समय ले सकते हैं। ऐसा करना आज के दौर में बुरा नहीं है। बल्कि इससे आपकी छवि एक प्रोफेशनल व्यक्ति की ही बनेगी जिसे अपनी जिम्मेदारियों का अहसास है और जो ऑनेस्ट है।

This is aawaz guest author account